अपहरण कर छात्रा से दुष्कर्म फिर हत्या

गाजियाबाद। मोदीनगर थाना क्षेत्र के उमेश पार्क कॉलोनी में पिछले बीते 15 दिनों से 13 वर्षीय छात्रा लपता थी। छात्रा शहर के ही रेलवे रोड़ स्थित रुकमणी इंटर कॉलिज में 9वीं कक्षा की छात्रा थी। छात्रा के परिजनों ने थाना मोदीनगर में जाकर आरोपीयों के खिलाफ नामजद FIR दर्ज कराई थी। पुलिस ने आरोपी हरीओम को हिरासत में लिया था, पुलिस ने आरोपी को 4 दिन की हिरास में रखा था। जिसके उपरांत वर्तमान में वार्ड न. 21 के पार्षद दीपक वत्स व ग्राम सीकरी खुर्द के पूर्व प्रधान खडकसिंह ने अपनी गारंटी पर आरोप हरीओम को थाने से थुड़ा कर ले आए। जानकारी के मुताबिक पता चला है, कि पूर्व प्रधान खड़क सिंह के थाना मोदीनगर की पुलिस व आला अधिकारीयों से काफी पुरानी तगड़ी संठगांठ है। जिसके चलते उन्होंने मोदीनगर थाना प्रभारी संजय वर्मा व सहाब नगर चौकी प्रभारी को करीब 7 लाख की रिश्वत देकर आरोपी हरिओम को थाने से छुड़ा कर लाए हैं। इस बात की सूचना लापता पिंकी(कालपनिक नाम) के परिजनों को नहीं थी। जब परिजन लापता बेटी पिंकी की सूचना लेने के लिए थाने जाते, तो पुलिस वाले पिता नरेश को धमका कर भगा देते थे। पिंकी के पिता उसी उमेंश पार्क कॉलोनी में सब्जी बेचा करते हैं। जब इस मामले की सूचना ssp को दी गई, तो एसएसपी ने भी कोई कर्रवाई नहीं की।

आपको बता ते चलें कि परिजनों के मुताबिक पता चला कि मकान मलिक का आरोपी बेटा हरिओम कई दिनों से पिंकी पर दुष्कर्म करने का दवाब बना रहा था, और पिंकी मना कर रही थी। तो उसने 2 सितंबर को छात्रा के पिता नरेश से बेटी पिंकी को 15 दिनों के भीतर जान से मारने की धमकी दी थी। छात्रा के पिता ने मकान खाली करके कहीं और जाकर रहने को कहा तो हरीओम ने पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी। जिसके कारण सब्जी बेकने वाले व छात्रा के पिता नरेश का पूरा परिवार डरा और सहमा हुआ था। पिता नरेश ने बताया कि पिंकी 4 सितंबर की सुबहा अपने रेलवे रोड़ स्थित रुकमणी इंटर कॉलेज स्कूल के लिए घर से निकली थी, जो की ना तो स्कूल ही पहुंची और ना ही शाम होने के बाद घर लौटी थी। जिसकी काफी ढूंढ़ की गई तो उसका कोई सुराग नहीं लगा था। जिसके बाद थाना मोदीनगर में मकान मालिक का आरोपी बेटे हरीओम के खिलाफ FIR दर्ज कराई थी।

मोदीनगर थाना क्षेत्र में 14 सितंबर की रात उस वक्त सनसनी फैल गई, जब मोदी नगर थाना के अंतर्गत आने वाले कल्छीना गांव के जंगलों में पिंकी का कटा हुआ सर और उसका स्कूल बैग पुलिस को बरीमद हुआ। पुलिस ने इस मामले में बृहस्पतिवार को फिर हरीओम को हिरासत में ले लिया और आरोपी की निशानदेही पर दुबारा ढूंढ मचाई गई, तो पुलिस ने लापता पिंकी का बचा हुआ शरीर का ढ़ड़ भी शुक्रवार सुबहा को 5 टुक्डों में कल्छीने गांव के जंगलों से बरामद कर लिया। उमेश पार्क की 9वीं कक्षा की लापता पिंकी का शव मिलने की सूचना क्षेत्र में आग की तरह फैलती चली गई। पुलिस की इस कर्रवाई को देखते हुए परिजनों और पूरे शहर के लोगों में काफी रोष पैदा हो गया। पुलिस ने शुक्रवार में शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा, तो उसकी रिपोर्ट में सामूहिक बलात्कार करने की भी पुष्टी हुई है। उसकी सूचना जब परिजनों को मिलते ही मोदीनगर क्षेत्र में कई हजार की तादात में लोग सड़क पर उमड़ पडे और थाने पहुंच कर काफी हंगामा उतारा, साथ ही रोड़ भी जाम कर दीया गया था। लोगों में रोष के कारण उपद्रव उतना फैल गया कि SSP को अन्य कई जिलों का पुलिस बल सहित PSC बल भी बुलाना पड़ा।

पुलिस ने इस मामले में बृहस्पतिवार को मुख्य आरोपी हरीओम को अपनी हिरासत में लेकर कड़ाई से पुछताछ की गई तो उसकी बताई गई जानकारी के मुताबिक जंगलों में शुक्रवार सुबहा छानबीन की गई तो छात्रा पिंकी का सड़ी गली हालत में शव बरामद किया था। छात्रा की पहचान उसके स्कूल की ड्रैस से की कई थी। आरोपी हरिओम ने बताया कि 4 सितंबर को ही स्कूल जाते समय उसने अपने धर्मेंद्र, कपिल, सुभाष समेत 5 साथियों के साथ मिलकर पिंकी का अपहरण करके, उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया था और फिर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और उसका शव कल्छीना गांव के जंगलों में फेंक दिया। जिसके बाद पुलिस ने हरीओम सहित 5 आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। लेकिन गौरतलब की बात तो यह है, कि पुलिस और सभी आरोपी इस बात को बताने से पीछे हट रहे है, कि उन्होंने शव को 10 किलोमीटर दूर कल्छीना गांव के जंगलों में कैसे लेकर गए थे। फिलाल पुलिस ने सभी पांचों आरोपियों को सहित उनके परिजनों को भी हिरासत में लेकर आगे की जांच में जुटी हुई है। लेकिन सभासद दीपक वत्स और सीकरी खुर्द के पूर्व प्रधान खड़क सिंह इलाके से फरार हैं। जनपद गाजियाबाद के SSP ने तत्काल मोदीनगर थाना प्रभारी संजय वर्मा व सहाबनगर चौकी प्रभारी सुधीर कुमार को लाइन हाजिर कर दिया गया है।