स्वामी का लिंग काटने वाली लड़की बयान से पलटी

नई दिल्ली। कुछ महीने पहले एक घटना सामने आई थी जिसमें गुस्से में आकर एक 23 वर्षीय लड़की ने स्वामी का लिंग काट दिया था क्योंकि स्वामी ने लड़की के साथ कई बार यौन उत्पीड़न किया। जिसके बाद युवती ने यू टर्न मारते हुए वकील को एक पत्र लिखा जिसमें स्वामी के यौन उत्पिड़न को खंडित करते हुए कहा कि पनमना आश्रम के स्वामी ने कभी भी उसके साथ बलात्कार नहीं किया था।

पुलिस के अनुसार यह घटना जब स्वामी के साथ हुई थी तब युवती नें पुलिस को बताया कि स्वामी ने उसके साथ बलात्कार किया था और वह जब नाबालिक थी तब भी उसके साथ स्वामी ने बलात्कार किया जिसकी वजह से लड़की ने गुस्से में आकर स्वामी के लिंग को ही काट दिया। घटना वाले दिन भी स्वामी ने लड़की के साथ बलात्कार करने की भी कोशिश की थी जिसके बाद उसने ऐसा कदम उठाया।
आपको बता दें कि पीड़िता ने वकील को एक खत लिखा है जिसमें कहा कि स्वामी जी की ओर से मेरे साथ कभी भी यौन उत्पीड़न नहीं किया गया उस समय भी जब मै नाबालिक थी या अब जब मै बालिक हो गई हूं स्वामी जी के ऊपर मेरा लगाया हुआ सारा आरोप गलत है। कुछ मामले पुलिस द्वारा अलग से शिकायत में जोड़ा गया है। अब इस बात की भी पुष्टी हो चुकी है कि खत लड़की ने ही लिखा है जिसको लिखने के बाद वकील को दिया है।
युवती के वकील के अनुसार अब सुनवाई तिरुअंनतपुरम के स्थानीय कोर्ट में होगी और वकील ने मांग की है कि पूरे मामले को केरल पुलिस के स्थान पर अलग तथा स्वतंत्र जांच एजेंसी से जांच कराई जाय। युवती ने खत में यह भी लिखा है कि पुलिस ने उनके ऊपर अपने बयान पर कायम रहने के लिए दबाव भी डाल रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार कोर्ट से युवती पर लाई-डिटेक्टर टेस्ट करने की अनुमति मांगने पर विचार कर रहे हैं।