जब हवा में कविता कौशिक का दम घुटने लगा !

मुंबई। कविता कौशिक ने हाल ही में जयपुर से मुंबई की हवाई यात्रा के दौरान विमान के कैबिन क्रू के साथ एक बड़ी दिलचस्प शरारत की। असल में, ज्यादातर लोग नहीं जानते कि कविता क्लॉस्ट्रोफोबिक हैं, यानी भीड़भाड़ वाली और बंद जगहों पर उन्हें दम घुटने का एहसास होने लगता है। हुआ यूं था कि कविता सामने की सीट पर बैठी थीं, पर उन्होंने एक बुजुर्ग बीमार शख्स को अपनी सीट दे दी और खुद इमरजेंसी एग्जिट के पास एक खाली सीट पर बैठ गईं। बहुत जल्दी ही उन्हें अपना दम घुटता-सा लगने लगा। इसके बाद विमान के उड़ान भरते ही वे उठीं और एयर होस्टेस के एरिया के पास जाकर उनसे बतियाने लगीं। कविता पूरे सफर के दौरान खड़े-खड़े ही गपशप और हंसी-मजाक करती रहीं, ताकि उनका ध्यान बंटा रहे और उन्हें सांसें अटकने का एहसास न हो।

इस बारे में कविता का कहना है, ‘कम ही लोग जानते हैं कि मुझे क्लॉस्ट्रोफोबिया की हल्की-सी दिक्कत है। नमी और भीड़ भरी जगहों पर मेरी सांसें अटकने लगती हैं। उस दिन भीषण गर्मी के कारण प्लेन का केबिन काफी गर्म हो रहा था और विमान खचाखच भरा था। स्टाफ ने मुझे जो इमरजेंसी एग्जिट सीट उपलब्ध कराई थी, वह अच्छी थी, पर मैं थोड़ा असहज हो रही थी। इसलिए मैंने खड़े होकर एयर होस्टेसेज के साथ बातचीत करना और सफर के दौरान उनकी तस्वीरें खींचकर समय बिताना ज्यादा अच्छा समझा। वैसे देखा जाए तो यह बड़ा मजेदार था।‘

कविता सब टीवी के नए शो ‘डॉ भानुमति ऑन ड्यूटी‘ में डॉ भानुमति भिन्न के रूप में नजर आयेंगी।