मानहानि केस की पैरवी कर रहे जेठमलानी ने छोड़ा केजरीवाल का साथ

नई दिल्ली। दिल्ली के सीएम केजरीवाल के खिलाफ केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने मानहानि केस किया था। जिसमें केजरीवाल की ओर से मशहूर वकील राम जेठमलानी उनके पक्षकार थे। लेकिन अब जेठमलानी ने केजरीवाल का साथ छोड़ने का फैसला लिया है। जेठमलानी ने खुद को केस से दूर करने और अपनी कानूनी फीस की अदायगी के लिए केजरीवाल को एक पत्र लिखा है। राम जेठमलानी ने ये कदम केजरीवाल द्वारा दिए गए बयान पर उठाया है। जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्होंने जेठमलानी को जेटली के लिए अभ्रद भाषा इस्तमाल करने के नहीं कहा है। वरिष्ठ वकील जेठमलानी ने पत्र लिखकर केजरीवाल पर आरोप लगाया है कि वो जेटली के खिलाफ धोखेबाज से भी बड़े आपत्तिजनक शब्दों का इस्तमाल करते थे।

ram Jethmalani, Kejriwal, defamation case, AAP, delhi, arun jaitley
ram Jethmalani Kejriwal

बता दें कि जेठमलानी ने केजरीवाल तो 2 करोड़ रूपये अदा करने को कहा है। केजरीवाल और 5 नेताओं के खिलाफ 10 करोड़ के मानहानि केस की पैरवी करने के दौरान जेठमलानी ने जेटली पर अभ्रद टिप्पणी की थी। इस पर जेठमलानी से स्पष्टीकरण मांगा गया था कि क्या ये टिप्पणी उन्होंने केजरीवाल के कहने पर की थी जिसका जवाब जेठमलानी ने हां में दिया था। इसके बाद जेटली ने केजरीवाल के खिलाफ एक और मानहानि का केस दर्द कराया था। जिसके बाद केजरीवाल ने हाई कोर्ट में हलफनामा देखिल कर जेटली को बताया कि उन्होंने जेठमलानी को अभ्रद टिप्पणी के लिए को निर्देश नहीं दिए थे। जिसके बाद जेठमलानी ने केस से पीचे हटने का फैसला कर लिया।