ज्योतिष आचार्य काली कृष्ण की दुकान पर छापा : मेरठ

नोएडा। वन्य जीवो पर होने वाले अत्याचार लाख कोशिशों के बाद भी रुकने का नाम नहीं ले रहे है, वन्य जीव अंग तस्कर जीवो के अंग की तस्करी करने के लिए नए नए तरीके निकाल रहे है और वन्य जीवो के अंगो की तस्करी करके करोड़ो रूपए कमा लेते है।

अभी मेरठ के प्रशांत विसनोही का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा है की फारेस्ट अधिकारियों ने नॉएडा में एक जयोतिष आचार्य काली कृष्ण की दुकान पर छापा मारकर सनसनी फैला दी, फोर्सेट अधिकारियों ने सेक्टर 18 में छापा मारकर आचार्य को गिरफ्तार कर लिया और आचार्य की दुकान से करोड़ो रूपए के वन्य जीवों के अंग बरामद करे है, इसके साथ ही पुलिस की मदद से दुकान से आठ कम्प्यूटर की हार्ड डिक्स बरामद कर ली है, जिसमें भी काफी राज छिपे हुए है, पूछताछ में आचार्य ने कबूला की वो करोड़ो रूपए के वन्य अंगो की तस्करी करता है, जिसके लिए बकायदा एक वेब साइट के माध्यम से कॉर्ड वार्ड में अंगो को दर्शाया जाता था,और कॉर्ड वार्ड में ही दूसरे ग्राहक से बात की जाती थी, फारेस्ट के अधिकारियों ने मेरठ में अपने ऑफिस पर प्रेसवार्ता करते हुए पत्रकारों को बताया की आचार्य का फोन और कम्प्यूटर जप्त कर लिए गए है, साइबर सेल की मदद से ग्राहकों को भी सामने लाया जाएगा, जबकि कम्प्यूटर्स के भी राज निकाले जाएंगे, इस स्केंडल से काफी लोग जुड़े हुए है,बताया जाता है, अंगो की डिमांड इस लिए भी ज्यादा है क्योंकि की तांत्रिक इससे क्रय करते है।

बताते चले जब से मेरठ में नेशनल शूटर प्रशांत विसनोही की गिरफ्तारी के बाद से ही इस स्केंडल की कलाई खुलती जा रही है, दिल्ली में 2 तस्करों के पकड़े जाने के बाद से इस स्केंडल का पर्दाफास हो सका, जबकि अभी इस स्केंडल के काफी लोग फरार और पुलिस और खुफिया तंत्र की पकड़ से परे है, लेकिन धीरे धीरे जानवरों के दुश्मनों पर सिकंजा कसता जा रहा है, और अब इसकी लीड फारेस्ट अधिकारियों की मिल चुकी है, जिसके आधार पर अब ये जानवरों के कातिल पकड़ में आ सकेंगे।