जाट आंदोलन का भरतपुर में व्यापक असर

भरतपुर। भरतपुर धौलपुर जिले के जाटों को आरक्षण की मांग को लेकर गुरूवार से शुरू हुए आंदोलन ने शुक्रवार को तेजी पकड़ी पूरे जिले में रेल और सड़क यातायात पूरी तरह से ठप कर दिए गए। जगह-जगह चक्काजाम और रेल रोको आंदोलन शुरू करने के साथ ही व्यापार महासंघ के आह्वान पर शहर सहित जिले के कस्बा कुम्हेर और डीग पूरी तरह से बंद रहे यहां तक की सब्जी, पान और फल आदि की दुकानें भी नहीं खुलीं।

लोग आवश्यक सामान यहां तक कि नाश्ता के लिए भटकते देखे गए।आंदोलनकारियेां ने जिले के सभी रेल मार्ग दिल्ली-मुम्बई, आगरा जयपुर, मथुरा-अलवर, पूरी तरह ठप कर दिये| इसके अलावा जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ ही भरतपुर-कुम्हेर, भरतपुर-डीग, डीग-कामां, भरतपुर-अलवर, डीग-नगर, नगर-नदबई, नगर-खेडली, भरतपुर-रूपवास, भरतपुर-बयाना, कुम्हेर-नदबई, नदबई-खेडली आदि पर जगह-जगह चक्काजाम कर यातायात पूरी तरह से ठप कर दिया।स्थिति यह बनी कि सभी सड़क और रेल मार्ग ठप हो जाने के कारण हजारों यात्रियों को परेशान होना पड़ा।

इन मार्गो से गुजरने वाली अधिकांश ट्रेनों को या तो दूसरे रास्तों से निकाला गया या तो उन्हें रद्द कर दिया गया| इससे हजारों यात्री परेशान रहे भरतपुर सहित जिले के सभी रेलवे स्टेशनों पर सन्नाटा पसरा रहा। दिल्ली-मुम्बई रेलमार्ग पर रारह रेलवे स्टेशन के निकट आंदोलन कारियों ने महापड़ाव आंदोलन शुरू कर इस मार्ग को ठप कर दिया जबकि इसी मार्ग पर भरतपुर और बयाना के बीच रेल यातायात ठप किया गया

जयपुर-आगरा रेल मार्ग को नदबई-भरतपुर के बीच हेलक पपरेरा रेलवे स्टेशनों के बीच आंदोलन चलाकर ठप किया गया जबकि मथुरा अलवर रेलमार्ग पर गुरूवार सायं पांच बजे से ही अनिश्चतकालीन महापड़ाव आंदोलन जारी है।  व्यापार महासंघ के आह्वान पर आज जिले के भरतपुर शहर सहित कुम्हेर और डीग कस्बा बंद पूरी तरह से सफल रहा स्थिति यह रही कि प्रात: से ही एक भी दुकान नहीं खुली यहां तक की चाय-पान, सब्जी, फल, नाश्ता आदि के लिए भी लोगों को भटकते देखा गया।

पहली बार इतने बड़े पैमाने पर बंद को सफल देखा गया जिसमें बिना किसी प्रयास के केवल आह्वान पर शहर सहित तीनों स्थानों का बंद का व्यापक असर देखा गया जिससे जनजीवन पर पूरा असर पड़ा और लोग जरूरी चीजों के लिए भटकते रहे।पूरे दिन बाजार बंद रहने से सन्नाटे जैसी स्थिति रही। लोगों का कहना था कि भरतपुर में आंदोलन आए दिन होते रहते हैं लेकिन पहली बार इतना सफल आंदोलन देखा है जिसमें रेल और सड़क यातायात ठप होने के साथ ही पूरी तरह बाजार बंद रहे।
भरतपुर-धौलपुर जाट आरक्षण संघर्ष समिति के नेताओं और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के निदेशक बीच पहले शुक्रवार देर शाम हुई पहले दौर की वार्ता बेनतीजा रही अब दूसरे दौर की वार्ता शनिवार को होगी वहीं जाट शुक्रवार देर शाम को बांदीकुई-आगरा के मध्य रेल की पटरियों से हट गए हैं| इसके बाद इस मार्ग पर रेल यातायात शुरू हो गया है।