जमैका टेस्ट : राहुल का शतक, भारत को 162 रनों की बढ़त

किंग्सटन। लोकेश राहुल (158) के करियर के तीसरे शतक की बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम ने सबीना पार्क मैदान पर वेस्टइंडीज के साथ जारी चार मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट के दूसरे दिन रविवार का खेल खत्म होने तक अपनी पहली पारी में पांच विकेट के नुकसान पर 358 रन बना लिए हैं। भारत को पहली पारी के आधार पर 162 रनों की बढ़त प्राप्त हुई है। उसने मेजबान टीम की पहली पारी 196 रनों पर समेट दी थी। दिन का खेल खत्म होने तक उपकप्तान अजिंक्य रहाणे 42 तथा रिद्धिमान साहा 17 रन बनाकर नाबाद लौटे। दोंनों के बीच छठे विकेट के लिए 31 रनों की साझेदारी हो चुकी है। भारत ने 125 ओवरों का सामना किया है।

kl rahul

भारत ने पहले दिन स्टम्प्स तक एक विकेट के नुकसान पर 126 रन बनाए थे। दिन का खेल खत्म होने तक राहुल 75 और चेतेश्वर पुजारा 18 रनों पर नाबाद लौटे थे। भारत ने शिखर धवन (27) के रूप में एक विकेट गंवाया था। दूसरे दिन राहुल और पुजारा ने पूरे संयम के साथ पारी को आगे बढ़ाया। राहुल ने पहले सत्र की समाप्ति से पहले 182 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया। वह कैरेबियाई धरती पर अपना पहला टेस्ट खेल रहे थे। वह यहां पहला टेस्ट खेलते हुए शतक लगाने वाले एकमात्र भारतीय हैं।

पुजारा भी उनका भरपूर साथ दे रहे थे लेकिन दूसरे सत्र में पुजारा ने संयम खोया और 208 के कुल यो पर रॉस्टन चेज द्वारा रन आउट कर दिए गए। पुजारा ने 159 गेदों का सामना कर चार चौके लगाए। राहुल के साथ नकी 121 रनों की साझेदारी हुई। इसके बाद कप्तन विराट कोहली विकेट पर आए और राहुल के साथ पारी को आगे बढ़ाने का काम किया। कोहली काफी अच्छी लय में दिख रहे थे।

उन्होंने कई बेहतरीन स्टोक्स लगाए। राहुल के साथ उन्होंने तीसरे तीसरे विकेट के लिए 69 रनों की साझेदारी की। कोहली विकेट पर थे, तभी 277 रनों के योग पर राहुल आउट हुए। राहुल को शेनान गेब्रियल ने आउट किया। राहुल ने 303 गेंदों का सामना कर 15 चौके और तीन छक्के लगाए।

कोहली ने रविचंद्रन अश्विन (3) के साथ स्कोर को 300 के पार पहुंचाया लेकिन 310 के कुल योग पर खुद कोहली विकेट छोड़ गए। कोहली ने चेज की गेंद पर आउट होने से पहले 44 रनों की उम्दा पारी में 90 गेंदों का सामना कर चार चौके और एक छक्का़ लगाए।

पहली पारी में बेहतरीन शतक लगाने वाले अश्विन का विकेट 327 के कुल योग पर गिरा। इसके बाद भारत को कोई और नुकसान नहीं हुआ। रहाणे ने 87 गेंदों पर छह चौके और एक छक्का लगाया है जबकि साहा ने 43 गेंदों पर दो चौके जड़े हैं। वेस्टइंडीज की ओर से चेज ने दो तथा बीशू और गेब्रियल ने एक-एक सफलता हासिल की है।

इससे पहले, ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (52-5) के नेतृत्व में अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर भारत ने वेस्टइंडीज की पहली पारी 196 रनों पर समेट दी थी। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी कर रही मेजबान टीम ने 52.3 ओवरों का सामना किया। उसकी ओर से जेम्स ब्लैकवुड ने सबसे अधिक 62 रन बनाए। इसके अलावा मार्लन सैमुएल्स ने 37 तथा अपना पहला टेस्ट खेल रहे मिग्वेल कुमिंस ने नाबाद 24 रन बनाए।

चार मैचों की सीरीज में मेजबान टीम 0-1 से पीछे है। उसे पहले टेस्ट मैच में एक पारी और 92 रनों से हार मिली थी। यह विदेश में भारत की सबसे बड़ी जीत है। उस मैच में अश्विन ने दूसरी पारी में सात विकेट लिए थे।