फिर गर्माया जाट आरक्षण का मुद्दा, शुरू होगा जाटों का महापड़ाव

जयपुर। ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) वर्ग में आने वाले जाटों की आरक्षण की मांग अब और भी ज्यादा उग्र होती जा रही है। जिसको लेकर भरतपुर-धौलपुर के जाटों ने बुधवार को एनएच 11 पर महापंचायत का आयोजन किया और गुरुवार को मथुरा मेहा हाईवे पर आंदोलन करने की चेतावनी दी। जाट आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक नेमसिंह फौजदार का कहना है कि हरियाणा के जाटों की तरह राजस्थान के जाटों ने भी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन किया था लेकिन उस वक्त संबंधित मामले पर राजस्थान सरकार ने कार्रवाई का आश्वासन देकर मामले को शांत करा दिया था। उन्होंने कहा कि अभी आश्वासन देने के बाद अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई है, लेकिन एक साल बीत जाने के बाद भी अब जाटों में काफी रोष है और अब जाट अलग अलग गांवों के लोगों को गुरुवार को होने वाले महापड़ाव के लिए आमंत्रित कर रहे हैं।

उनका कहना है कि सरकार सिर्फ और सिर्फ आंदोलन की भाषा को समझती है, और अब जाट अपना हक पाने के लिए किसी भी तरह की कुर्बानी दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि गुरुवार को होने वाले महापड़ाव में किसी को भी कुछ नुकसान होता है तो इसका खामियाजा सरकार को भुगतना होगा।
आपको बता दें कि यहां के जाट आर्थिक रुप से सही माने जाते हैं इसलिए सरकार ने प्रदेश के अन्य जाटों को आरक्षण देते वक्त यहां के जाटों को आरक्षण के वंचित रखा था।