न्यूजीलैंड के बाद अब इटली के प्रधानमंत्री ने की इस्तीफे की पेशकश

रोम। इटली में संविधान संशोधन पर जनमत संग्रह में बड़ी हार के बाद प्रधानमंत्री मातेओ रेन्जी ने सोमवार को इस्तीफे का ऐलान किया। रेन्जी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, “मेरी सरकार का अनुभव यहां स्पष्ट रूप से खत्म होता है। कल दोपहर, मैं मंत्रिमंडल को धन्यवाद देने के लिए उन्हें इकट्ठा करूंगा और इस्तीफा दे दूंगा। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, संवैधानिक संशोधन पर जनमत संग्रह पर इसके पक्ष में 41 फीसदी और विपक्ष में 59 फीसदी मत पड़े हैं। रेन्जी ने कहा, “मतदान की दर सभी अनुमानों से अधिक रही है और स्पष्ट रूप से इसे नकारने वालों की जीत हुई है।

%e0%a4%9d%e0%a4%b8

न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री ने  दिया था इस्तीफा- सोमवार को न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जॉन की ने आश्चर्यजनक तौर से सोमवार को अपने पद से इस्तीफे की घोषणा कर दी है। संवाददाताओं से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि मेरे द्वारा लिया गया यह फैसला निःसंदेह बहुत कठिन है, पर पारिवारिक कारणों के चलते मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। वैसे मेरे इस निर्णय के पीछे और भी कई कारण हैं पर अब मुझे लगता है कि राजनीति को छोड़ने का यह मेरा सही समय है और मैं अपने पद से इस्तीफा देना चाहता हूं।

न्यूजीलैंड के 38वें प्रधानमंत्री के तौर पर जॉन की ने 19 नवंबर 2008 को पदभार संभाला था। 55 वर्षीय प्रधानमंत्री ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मेरे परिवार ने मिलकर यह फैसला लिया है, मेरे चलते मेरे बच्चों को काफी दबाव महसूस करना पड़ता है, कई तरह से उनके निजी जिंदगी में दखलअंदाजी का सामना करना पड़ता है।