खुलासा: IPL सीजन-10 में हुई फिक्सिंग, पैसे लेकर पिच से होती थी छेड़छाड़

आईपीएल के सीजन-10 में फिक्सिंग को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। इस मामले में गिरफ्त में आए महाराष्ट्र के अंडर-19 खिलाड़ी नयन शाह ने कबूल किया है कि उसके सट्टेबाजों से रिश्ते रहे हैं और वह मैचों के नतीजे प्रभावित करने के लिए पिचों से छेड़छाड़ करवाता था।

बता दें कि नयन शाह ने पुलिस को बताया कि सभी आईपीएल मैचों के लिए उसने बड़े सट्टेबाजों से कॉन्ट्रैक्ट लिया था। पिच की जानकारी देने के लिए उसने सट्टेबाजों से डेढ़ लाख रुपये लिए थे। नयन के मुताबिक, कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम के स्टाफ रमेश कुमार के साथ उसकी मिली-भगत थी।

वहीं नयन के आदेश के मुताबिक पिच पर पानी डालता था। इसके एवज में उसे 20 हजार रुपये मिलते थे। नयन शाह के मोबाइल से मुंबई के स्टेडियम की पिच की तस्वीरें भी मिलीं हैं। उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए आईपीएल मैच के बाद पुलिस ने टीम होटल से दो बुकीज़ को गिरफ्तार किया था।

साथ ही उनके पास से 60 लाख रुपये बरामद हुए थे। जिसके बाद मैच फिक्सिंग के एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ हुआ। इस होटल की 12वीं और 14वीं मंजिल पर टीमें ठहरी थीं, जबकि आईपीएल स्टाफ 17वीं मंजिल पर ठहरा हुआ था। फिलहाल ग्रीन पार्क स्टेडियम का स्टाफ कर्मचारी रमेश कुमार पुलिस कस्टडी में है।

नयन शाह के मोबाइल में 12 बुकीज़ के नाम और नंबर मिले हैं, जिनकी धरपकड़ के लिए महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान में छापे मारे जा रहे हैं। जांच में पता चला है कि बंटी खंडेलवाल नाम का व्यक्ति इस रैकेट का सरगना है और वह अजमेर से है। इस रैकेट के तार सीमापार से भी जुड़े होने की बात सामने आई है।

जांच के दौरान हनीफ नामक शख्स का नाम भी सामने आया है, जो अफ्रीका से है और माना जा रहा है कि इस समय वह गुजरात में ही है। नयन शाह के मोबाइल से दो खिलाड़ियों की डिटेल मिली है। पुलिस ने उनके नाम सार्वजनिक नहीं किए हैं। फिलहाल आरोपियों से पूछताछ जा रही है।