वाराणसी में खुलेगा अंतरराष्ट्रीय चावल शोध केंद्र

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी को बड़ी सौगात देते हुए केंद्र सरकार दो महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय संस्थानों की स्थापना करने जा रही है। इसके लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अंतरराष्ट्रीय चावल शोध संस्थान और दक्षिण एशिया क्षेत्रीय केंद्र की स्थापना को मंजूरी दे दी। यह दोनों संस्थान वाराणसी स्थित राष्ट्रीय बीज शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र के परिसर में स्थापित किए जाएंगे।

international, rice, research, centre, varanshi, opened,
in varanshi open Rice meal

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में वाराणसी में अंतरराष्ट्रीय चावल शोध संस्थान और दक्षिण एशिया क्षेत्रीय केंद्र की स्थापना को हरी झंडी दी गई। बैठक में ये भी तय़ हुआ कि दोनों संस्थान राष्ट्रीय बीज शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र में स्थापित होंगे।
प्रस्ताव के तहत, वाराणसी में चावल मूल्य संवर्द्धन उत्कृष्टता केंद्र भी स्थापित किया जाएगा। इसमें अनाज और पुआल में भारी धातुओं की गुणवत्ता और स्थिति का निर्धारण करने की क्षमता वाली आधुनिक और परिष्कृत प्रयोगशाला शामिल होगी। केंद्र चावल मूल्य श्रृंखला में हितधारकों के लिए क्षमता निर्माण अभ्यास भी करेगा।
यह केंद्र पूर्वी भारत में पहला अंतरराष्ट्रीय केंद्र होगा जो इस क्षेत्र में चावल उत्पादन को सतत बनाए रखने और बढ़ावा देने में अहम भूमिका अदा करेगा।