कुलभूषण मामले में 15 मई को सुनवाई करेगा अतंर्राष्ट्रीय कोर्ट

हेग। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी की सज़ा के खिलाफ़ भारत की अपील पर 15 मई को सुनवाई करेगा। यह जानकारी गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। बात दें कि भारत ने गत 8मई को कुलभूषण जाधव की फांसी सज़ा पर रोक के लिए हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में अपील की थी। मीडिया की ख़बरों के अनुसार, भारत की अपील पर अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान से कुलभूषण जाधव की फांसी तब तक रोकने को कहा है जब तक न्याय की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती है।

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता का बड़ा बयान

मीडिया रिपोर्ट्स का ये भी कहना है कि उधर पाकिस्तान की सेना ने बुधवार को साफ़ किया कि कुलभूषण जाधव को फांसी की सज़ा के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के किसी भी सवाल का जवाब उचित स्तर पर ज़रूर दिया जाएगा। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ ग़फ़ूर ने कहा कि कुलभूषण जाधव को सैन्य अदालत ने क़ानूनी प्रक्रिया के बाद सज़ा सुनाई है। उन्होंने कहा कि अगर जाधव के बारे में अंतर्राष्ट्रीय अदालत पाकिस्तान से कुछ भी मांगती है तो उचित स्तर पर इसका जवाब दिया जाएगा।

नवाज शरीफ से हुई बातचीत

इस मामले में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से बात की है। इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अज़ीज़ ने कहा था, “पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय अदालत के अधिकार क्षेत्र के बारे में जांच कर रहा है। इस मामले में विदेश मंत्रालय एक या दो दिन में अपना बयान जारी करेगा।”

विएना संधि के उल्लंघन का आरोप

भारत ने अंतर्राष्ट्रीय अदालत में की गई अपील में पाकिस्तान पर विएना संधि के उल्लंघन का आरोप लगाया है। भारत ने कहा है कि कुलभूषण जाधव ईरान में व्यापार कर रहे थे जहां से उन्हें अगवा किया गया था। लेकिन पाकिस्तान का दावा है कि उन्हें 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था और गत अप्रैल महीने में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने उन्हें फांसी की सज़ा सुनाई थी।