इंटेल इंडिया ने ‘डिजिटल इंडिया चैलेंज 2.0’ की शुरुआत की

हैदराबाद। नवोन्मेष और स्थानीय प्रतिभाओं को बढ़ावा देने के लिए इंटेल इंडिया ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के साथ मिलकर गुरुवार को ‘डिजिटल इंडिया चैलेंज 2.0’ की शुरुआत की। माईगॉव, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवी) और हैदराबाद की टी-हब फाउंडेशन ने मिलकर इस साल की प्रतियोगिता का आयोजन किया है। इस साल प्रतिभागियों को डिजिटाजेशन को बढ़ावा देने वाले इंटेल आर्किटेक्चर (आईए) पर आधारित वाणिज्यिक समाधान प्रस्तुत करने की चुनौती दी गई है।

kt-rama

इस बारे में तेलंगाना के सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री के. टी. रामा राव ने कहा, “इस प्रकार के सार्वजनिक-निजी भागीदारी को देखना खुशी की बात है जो इंटेल इंडिया, एमईआईटीवाई, माई गॉव और टी हब के बीच हुआ है। यह देश में दीर्घकालिक नवोन्मेष की संस्कृति को बढ़ावा देगा।” इस साल यह प्रतियोगिता 5 चरणों में होगी और इसका अंतिम राउंड अप्रैल 2017 में होगा। चुने गए दलों में से प्रत्येक को 3 लाख का अनुदान मुहैया कराया जाएगा, ताकि इंटेल आर्किटेक्चर पर आधारित न्यूनतम व्यवहार्य उत्पाद (एमवीपी) हैदराबाद के टी-हब इंकूबेटर में एक्सेलेटर कार्यक्रम के तहत बना सकें।

इसमें जीतने वाले दल को आगे के विकास के लिए 20 लाख रुपये दिए जाएंगे। माईगॉव के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गौरव द्विवेदी ने बताया, “पिछले साल इस प्रतियोगिता के तहत छह आईडिया पर काम किया गया, जो आज भारतीय स्वास्थ्य सेवा और कृषि क्षेत्र में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।”इंटेल दक्षिण एशिया के प्रबंध निदेशक और उपाध्यक्ष (बिक्री और विपणन) देबजानी घोष ने बताया, “डिजिटल इंडिया विजन को साकार करने में नवोन्मेष एक महत्वपूर्ण घटक है। देश की चुनौतियों का सामना करने के लिए हमें स्थानीय सतत नवाचार तंत्र की आवश्यकता है।”

वे आगे कहती हैं, “मजबूत सार्वजनिक-निजी भागीदारी से जहां इंटेल इंडिया, एमईआईटीवाई, माई गॉव और टी हब साथ मिलकर विचारों को समाधान में बदल रहे हैं, विघटनकारी लेकिन टिकाऊ तकनीकी नवाचार अब हकीकत है।”नीति आयोग के साथ हाल की भागीदारी से इंटेल इंडिया देश भर के 10 स्कूलों में एटाल टिंकरिंग लेबोरेटरीज (एएलटीएल) की स्थापना कर रही है।