सात साल बाद चीन से इस मामले में बहुत आगे होगा भारत

न्यूयॉर्क। जनसंख्या मामले में भारत साल 2024 तक चीन को पीछे छोड़ देगा। यह खुलासा हाल में संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग की ओर से बुधवार को पेश की गई एक रिपोर्ट से हुआ है।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की आबादी 1.21 अरब है, जबकि भारत की आबादी 1.34 अरब है। इन दोनों देशों की विश्व की जनसंख्या में क्रमश: 19 प्रतिशत और 18 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।

अनुमान के मुताबिक साल 2022 में दोनों देशो की आबादी बराबर हो जाएगी और दो साल बाद साल 2024 में भारत इस मामले में चीन को पीछे छोड़ देगा। इतना नहीं साल 2030 में भारत की आबादी 1.5 अरब और 2050 में 1.66 अरब होने का अनुमान लगाया गया है। चीन की आबादी 2030 तक स्थिर हो जाएगी जिसके बाद गिरावट का दौर शुरू होगा, जबकि भारत की आबादी में 2050 के बाद कमी आएगी।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक विश्व की मौजूदा जनसंख्या 7.6 अरब है, जो साल 2050 तक बढ़कर 9.8 अरब हो जाएगी। यूएन के आर्थिक और सामाजिक विभाग के मुताबिक अगले सात साल में भारत की जनसंख्या चीन से भी ज्यादा हो जाएगी। वहीं, साल 2050 तक नाइजीरिया की आबादी अमेरिका से ज्यादा हो जाएगी। इसके साथ ही नाइजीरिया दुनिया का तीसरा सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा।

बता दें कि फिलहाल भारत की जनसंख्या 1.3 अरब और चीन की 1.4 अरब है। भारत समेत दुनिया भर में तेजी से बढ़ रही जनसंख्या ने चिंता बढ़ा दी है। मोटे तौर पर हर साल 8.3 करोड़ आबादी बढ़ रही है, जबकि अनाज उत्पादन में तेजी से गिरावट दर्ज की जा रही है। साल 2030 तक दुनिया की आबादी 8.6 अरब और 2050 तक 9.8 अरब हो जाएगी। इतना ही नहीं, साल 2050 तक 60 या इससे ज्यादा उम्र के लोगों की संख्या दो गुनी से भी ज्यादा हो जाएगी।