भारत की पाकिस्तान को दो टूक कहा: कश्मीर नहीं आतंकवाद पर होगी बात

नई दिल्ली। माना रहा है कि विदेश सचिव एस. जयशंकर ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष एजाज चौधरी के जम्मू एवं कश्मीर पर बातचीत के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है। सूत्रों ने यहां बताया, “पाकिस्तानी विदेश सचिव के निमंत्रण के जवाब में, भारतीय विदेश सचिव ने इस्लामाबाद की यात्रा की अपनी इच्छा से उन्हें अवगत करा दिया है। “

S jaishankar

सूत्रों ने कहा, “चूंकि, जम्मू एवं कश्मीर के मौजूदा हालात के केंद्र में सीमा-पार आतंकवाद से जुड़े मुद्दे हैं, इसलिए हमने विदेश सचिवों की बातचीत को इसी मुद्दे पर कें द्रित करने का प्रस्ताव दिया है। “सूत्रों ने कहा, “हमने यह भी बता दिया है कि भारत सरकार ने स्पष्ट तौर पर जम्मू एवं कश्मीर के हालात को लेकर लगाए गए आरोपों को खारिज किया है, जो कि भारत का अभिन्न अंग है और जिस पर पाकिस्तान का कोई अधिकार नहीं है।” विदेश कार्यालय ने कहा कि पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त को चौधरी ने सोमवार को बुलाया था और जयशंकर के नाम निमंत्रण उन्हें सौंपा था।

भारत, जम्मू एवं कश्मीर में भारतीय शासन समाप्त करने के लिए आतंकियों को हथियार और प्रशिक्षण देने का आरोप पाकिस्तान पर लगाता रहा है। पाकिस्तान का कहना है कि वह केवल नैतिक और कूटनीतिक समर्थन देता है। आतंकी बुरहान वानी के 8 जुलाई को मारे जाने के बाद कश्मीर में बड़े पैमाने पर फैली हिंसा से भारत-पाकिस्तान के रिश्ते ठंडे पड़ गए। लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी बहादुर अली को भारतीय अधिकारियों ने कश्मीर में 25 जुलाई को गिरफ्तार किया था।