भारत और फ्रांस के बीच रेलवे क्षेत्र में सहयोग पर सहमति

नई दिल्ली। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने गुरुवार को फ्रांस के परिवहन मंत्री एलेन विडालीज के साथ मुलाकात कर फ्रेंच नेशनल रेलवे और भारतीय रेलवे के बीच लंबे समय से चली आ रही तकनीकी सहयोग को और बढ़ाने पर बल दिया। इस दौरान एलेन विडालीज के साथ एक शिष्टमंडल भी मौजूद था।

दोनों पक्षों ने हाई स्पीड और सेमी- हाई स्पीड रेल, वर्तमान संचालन और बुनियादी ढांचे का आधुनिकीकरण, स्टेशन नवीकरण और संचालन, उपनगरीय गाड़ियां और सुरक्षा प्रणालियां, संचालन और सुरक्षा पर पारस्परिक सहयोग और विशेषज्ञता का आदान-प्रदान करने पर सहमति व्यक्त की। इससे दोनों देशों के हितधारकों को लाभ होगा। एलेन विडालीज ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर इस बैठक तस्वीरें पोस्ट करते हुए एक ट्वीट भी किया।

 

 

फांस में रेलवे नेटवर्क 30 000 किमी लंबा है, 2000 किलोमीटर से अधिक हाई स्पीड ट्रैक और लगभग 3000 स्टेशन हैं। हाई स्पीड नेटवर्क का अभी भी विस्तार किया जा रहा है। फांस में सुरक्षा और सुविधाओं में सुधार निश्चित रूप से चिंता का विषय बना हुआ है।ऐसे में उनकी विशेष प्राथमिकता क्षेत्र सुरक्षा गति में सुधार लाने, स्टेशनों की मरम्मत और सुधार, यात्री सुविधाएं, माल ढुलाई और नेटवर्क का विस्तार करने पर केंद्रित हैं।

इस संदर्भ में, दोनों नेताओं ने आम चुनौतियों का सामना करने के लिए नियमित अनुभव साझा करने पर सहमति व्यक्त की। दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि पारस्परिक सहयोग और विशेषज्ञता का आदान-प्रदान करके दोनों देशों के हितधारकों को लाभ होगा। दोनों देशों के बीच यह सहयोग विशेष रूप से निम्नलिखित क्षेत्रों पर केंद्रित रहेगा

-हाई स्पीड और सेमी- हाई स्पीड रेल

-वर्तमान संचालन और बुनियादी ढांचे का आधुनिकीकरण

-स्टेशन नवीकरण और संचालन

-उपनगरीय गाड़ियां

-सुरक्षा प्रणालियां, संचालन और सुरक्षा