जानिए कौन-सा है वो देश, जहां महिलाए हैं रानी, पुरूष भरते हैं पानी

नई दिल्ली। अक्सर आपने पुरूषों के आगे सिर्फ महिलाओं को ही झुकता देखा होगा। चाहे वो अमेरीका हो या फिर भारत हर जगह पुरूष की प्रधानता है। महिलाए कितना भी कमा ले लेकिन पुरूष से ऊचा दर्जा कभी उसे नहीं मिल सकता है। चुनाव जीत जाती है तो गांव की सरपंच हो जाती है लेकिन काम पति ही करते है उसे सिर्फ संभालना होता है। पुरूष प्रधानता को छोड़ आज हमको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे है जहां पर महिलाए, पुरूषों को गुलाम की तरह रखती है। उनसे इंसान नहीं बल्कि एक जानवर की तरह पेश आती है।

जी हां पुरूषों को गुलाम बना कर रखने वाले इस देश का नाम ‘अदर वर्ल्ड किंगडम’ है। यह देश 1996 में यूरोपियन देश चेक रिपब्लिक से बनाया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक अन्य राष्ट्रो ने इस देश को देश का दर्जा अभी तक नहीं दिया है। इस देश में एक रानी है, जिसे पैट्रिसिया-1 कहा जाता हैं। उसी के राज में बसे इस देश में पुरूषों को गुलाम के अलावा कुछ और नहीं समझा जाता। अगर कोई पुरूष इस देश में चला भी जाता है तो उसे रानी के बैठने के लिए सोफा बनना पड़ता है। इतना ही नहीं बल्कि पुरूषों को शराब पीने से पहले रानी के पैरों में उसे चढ़ाना पड़ता है।

जब वो शराब रानी के पैरो पर चढ़ा लेता है तभी पी सकता है। सुनने को तो यह भी मिलता है कि यहां का कोई भी काम महिलाओं की इजाजत के बिना नहीं होता। पुरूषों को अपना काम करने के लिए भी महिलाओं की इजाजत लेनी पड़ती है जो इनकी बातों का उल्लंघन करता है उसके लिए सख्त कानून बनाए गए है। जो भी पुरूष महिलाओं के आदेशों का उल्लंघन करता है तो उसे सजा भुगतनी पड़ती।


कोई भी ले सकता है नागरिकता

महिलाएं ही इस देश की नागरिकता ले सकती हैं, जिसके लिए महारानी ने कुछ नियम बनाए हैं क्या है वो नियम

उस महिला को नागरिकता दी जाएगी, जो अपनी सहमति से किसी भी तरह के संबंध बनाने की उम्र में पहुंच गई हो

इस देश की नागरिकता उसी महिला को मिलती है जिसके पास पुरूष नौकर है।

नागरिकता लेने के लिए महिला को 5 दिन महारानी के महल में बिताने होंगे।