परम्परा के नाम पर निकाल देते हैं यहां लड़कियों का प्राइवेट पार्ट

नई दिल्ली। दुनिया गोल हैं और दुनिया में कई सारी जगहें और हर जगह की अपनी-अपनी परम्परा। कहीं परम्पराओं के नाम पर महिला और लड़कियों के साथ बदसलूकी होती हैं तो कही जबरदस्ती तो कहीं परम्परा के नाम पर लड़कियों का शोषण।

लेकिन हम सब जानते हैं कि हर जगह पर एक नया रिवाज और परम्परा हैं कुछ रिवाज हमें हैरान करने वाले हैं तो कुछ सोचने पर मजबूर करने वाले लेकिन आज हम आपको एक ऐसे रिवाज के बारें में बताएंगे जिन्हे जानकर आप भौच्चक रह जाएंगे।

इतनी अजीब और डरावनी परम्परा कैसे हो सकती हैं कहीं की सोचिए मात्र इतने से ही हमें डर लगने लग जाता हैं उन पर क्या बीतती होगी जिनके साथ ये होता हैं।

एक ऐसा देश हैं जहां ट्राइब नाम की एक जनजाति रहती हैं और इनके यहां एक रिवाज सैकड़ो सालों से चला आ रहा हैं और आज भी चलता हैं। इस रिवाज के तहत लड़की के प्राइवेट पार्ट का एक हिस्सा काट कर अलग कर दिया जाता हैं।

प्राइवेट पार्ट के जिस हिस्से को काटा जाता हैं उसे क्लाइटॅारिस कहते हैं। ट्राइब जाति के लोगों का मानना हैं कि लड़की अगर इस दर्द को सह लेगी तो वो जीवन में हर दर्द को सह लेगी और किसी भी मुश्किल से बड़ी आसानी से निकल जाएगी। हांलाकि इसमें लड़की को बहुत दर्द का सामना भी करना पड़ता हैं लोकिन परम्पराओं के नांम पर वो चुपचाप ये सहती रहती हैं।