पंजाब में छाई ईद की खुशियां लोगों ने अता की ईद की नमाज

चंडीगढ़। पंजाब में भी ईद की धूम देखने को मिली है,पूरे पंजाब में ईद के त्यौहार की खुशियां देखने को मिल रही है। मुस्लिम समुदाय के सभी लोगों ने मस्जिदों और ईदगाहों में ईद की नमाज अता की और एक दूसरे को गले लगा कर सारे गिले-शिकवे दूर किए। ईद के इस अवसर पर मुस्लिमों को अन्य समाज के लोग बधाई दे रहे है और ईदगाहों में मेलों का आयोजन भी किया गया है।


जालंधर,अमृतसर,लुधियाना,बठिंडा समेत सभी क्षेत्रों में ईद की खुशी देखने को मिल रही है। ईदगाह और मस्जिदों में लोग हजारों की संख्या में पहुंचे और ईद की नमाज अता की,मस्लिमों ने पहले मस्जिदों में नमाज पपढ़ी और फिर एक दूसरे को गले लगा कर ईद की बधाईयां दी।

मस्जिदों और ईदगाहों में जगह कम पड़ जाने की वजह से लोगों ने सड़क पर ही ईद की नमाज अता की,ईद के इस मौके पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए,मस्जिदों और ईदगाहों पर पुलिस बल को तैनात किया गया है। चंडीगढ़ में भी लोगों ने मस्जिदों और ईदगाहों में जाकर ईद की नमाज अता की है। इस मौके पर दूसरे समुदाय के लोग भी मुस्लिमों को बधाई दे रहे हैं। यहां लोगों ने हजारों की संख्‍या में नमाज अता की और फिर ईद के मेले का आनंद ले रहे हैं। लोग सेवईयां और मिठाइयां बांट रहे हैं।

पूरे देश में इस त्यौहार को हिंदू और मुस्लिम मिलकर मनाते है एक दूसरे को गले लगाकर हर गिले-शिकवे को दूर करते है और सेवईयों की मिठास से अपने रिशतों को मीठा करते है। ईद के दिन बच्चे बुढे सभी लोग हर्ष-उलास के साथ मनाते है। मुसलमानों का त्योहार ईद रमज़ान का चांद डूबने और ईद का चांद नज़र आने पर उसके अगले दिन चांद की पहली तारीख़ को मनाई जाती है। इसलामी साल में दो ईदों में से यह एक है दूसरा ईद उल जुहा या बकरीद कहलाता है। पहला ईद उल-फ़ितर पैगम्बर मुहम्मद ने सन 624 ईसवी में जंग-ए-बदर के बाद मनाया गया था।