दिवाली पर सिक्कों एवं बर्तन का महत्व

दिवाली। खुशियों का पर्व कहे जाने वाली दिवाली अब कुछ ही दिनों में आने वाली है। देश में दिवाली से कई दिनों पहले ही दिवाली के लिए माहौल बना गया है। दिवाली पर कई तरह की पूजा-अर्चना की जाती है। सभी लोग अपने अपने घरों को अच्छी तरह से सजा लेते हैं। नए नए कपड़े पहन कर लोग खुशियां बांटते हुए नजर आते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि दिवाली पर बर्तन और सिक्के खरीदने का कुछ अलग ही महत्व है।

दिवाली पर गहने-जेवर खरीदने की परंपरा काफी पुरानी है और कई  वर्षों से यह चली आ रही है। खासतौर पर धनतेरस के दिन सिक्के और बर्तन खरीदने का काफी महत्व है। इस दिन लोग अपने अपने घरों में नए बर्तन या सिक्के लाते हैं। ऐसा करना काफी शुभ माना जाता है। इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा अर्चना की जाती खासतौर पर की जाती है। धनतेरस के दिन लोग अपने घर में लक्ष्मी जी का आग्वन कराने के लिए उनकी पूजा करते हैं। वैभव की इच्छा जो लोग करते हैं वह घर में तरह तरह की चीजें लेकर आते हैं। लोग अपने घरों में हीरा, चांदी, धनिया का बीज, पत्नी के लिए लाल कपड़ा, तिजोरी या फिर स्टील के बर्तन अपने घरों में लाते हैं। लेकिन धनतेरस के दिन बर्तन खरीदना काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

Pages: 1 2 3