2 जून की रोटी का महत्व

नई दिल्ली। 2 जून अवधि भाषा का शब्द हैं जिसका अर्थ वक्त या समय होता हैं। दो जून की रोटी वैसे दो ये एक साधारण सा मुहावरा हैं लेकिन इसका जून महीने से कोई संबंध नही हैं। यह कब और कहा से आया ये भी नही पता, लेकिन इसका शाब्दिक अर्थ कुछ अलग ही हैं।

बचपन में पढ़ी गई किताबों में हमने ऐेसे मुहावरे पढ़े जिनका अर्थ जीवन की गहराइयों तक जाता हैं। ऐसा ही एक मुहावरा दो जून की रोटी भी हैं। मोटे तौर पर माना जाए तो यह करीब 600 साल पहले से प्रचलन में हैं किसी घटनाक्रम की विशेषता बताने के लिए मुहावरों को जोड़कर प्रयोग में लाया जाता हैं यह क्रम आजतक जारी हैं।
दो जून की रोटी का मतलब
कड़ी मेहनत के बाद भी लोगों को दो समय का खाना नसीब नहीं होना