16 सालों तक अनशन करने वाली इरोम को मिलें 90 वोट

इंफाल। मणिपुर के सियासी संग्राम के आज नतीजे आ गए हैं। मणिपुर के मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी थौबल विधानसभा सीट से जीत गए हैं। उन्होंने अपने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लीतानथेम बसंता सिंह को शिकस्त दी है। भाजपा और कांग्रेस के बीच सियासी जंग में मुख्यमंत्री सीट की प्रबल दावेदार मानी जा रही इरोम शर्मिला को करार झटका लगा है। 16 सालों तक अनशन करने वाली इरोम शर्मिला को इन चुनावों में महज 90 वोट मिले हैं।

पीपुल्स रिसर्जेजेंस एंड जस्टिस अलायंस (पीआरएजेए) की उम्मीदवार शर्मिला खुराई सीट भी चुनाव लड़ रही थी। बता दें कि मणिपुर में लागू सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां) अधिनियम, 1958 के खिलाफ 16 सालों तक अनशन करने वाली मानवाधिकार कार्यकर्ता शर्मिला ने पिछले साल अपना अनशन समाप्त किया और राजनीति के गलियारे में अपनी किस्मत आजमाने लगी। राजनीति में सक्रिय होने के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री बनने का सपना संजोया।

इरोम ने अगस्त 2016 में अपना 16 वर्षों तक चला अनशन समाप्त किया था। उन्होंने इसके बाद अक्टूबर 2016 में पीआरएजेए पार्टी बनाते हुए कहा था कि वह थौबल एवं खुराई से चुनाव लड़ेंगी।