आपके बच्चे को भी है अस्थमा.. हो सकती हैं ये घातक बीमारियां

नई दिल्ली। अगर आपके बच्चे को भी दमा की बीमारी है तो धीरे-धीरे समय के साथ उसमें मोटा होने की संभावनाएं बढ़ती जाती हैं। हाल ही में हुए एक शोध में सामने आया है कि सामान्य बच्चों की तुलना में ऐसे बच्चे जिन्हें अस्थमा है उनमें समय के साथ साथ अनेक तरह की बीमारी होने का खतरा पैदा हो जाता है। इस तरह के बच्चों में 50 से भी ज्यादा प्रतिशत की संभावनाएं होती हैं।

दमा पीड़ित बच्चों में मोटापे के शिकार होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं।

अमेरिका के दक्षिणी कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर फैंक डी गिलीलैंड ने कहा, “जल्दी रोग की पहचान और इलाज से बचपन की मोटापे की महामारी को रोका जा सकता है।” यद्यपि शोधकर्ता साफ नहीं कर सके कि दमा पीड़ित बच्चों में ज्यादा मोटापे का खतरा रहता है या मोटापे के शिकार बच्चों में दमा के विकास का खतरा रहता है या दोनों बातें हैं। दमा पीड़ित बच्चों में मोटापे के शिकार होने की प्रबल संभावना के एक कारण में श्वास संबंधी दिक्कतों की वजह से ऐसे लोगों के खेल और व्यायाम में कमी होना है।

गिलीलैंड ने कहा कि इसके अलावा अस्थमा के दवाओं का प्रभाव भी वजन के रूप में पड़ता है। अस्थमा और मोटापे से दूसरी उपापचयी बीमारियां भी पैदा होती हैं। इसमें पूर्व-मधुमेह और बाद में टाइप टू मधुमेह की बीमारियां हैं। गिलीलैंड ने कहा कि शोध में यह भी सुझाव दिया गया है कि दमा इनहेलर से मोटापे को रोकने में मदद मिलती है। शोध के लिए दल ने 2171 किंडरगार्टेनर और पहली कक्षा के छात्रों के रिकॉर्ड का अध्ययन किया। इसमें 13.5 फीसदी बच्चों को दमा था। लेकिन यह मोटापे के शिकार नहीं थे। इस शोध का प्रकाशन ‘अमेरिकन जर्नल ऑफ रिस्पाइरेटी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसीन’ में प्रकाशित हुआ है।