इस काम को जरूर करें पूरा, नहीं तो आ जाएंगे शक के घेरे में

नई दिल्ली। अकसर पार्टनर्स में इसी बात को लेकर झगड़ा होता है कि तुम शक करने लगे हो। अकसर पार्टनर ताना कसता है कि तुम शक करते रहते हो। अगर आपका साथी भी आपको इस तरह के ताने देता है तो इसमें बूरा मानने वाली कोई बात नही है बस आपको अपने दिनचर्या में थोड़ा सा बदलाव करना पड़ेगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक पता चला है कि नींद पूरी न होने के कारण भी व्यक्ति के अंदर शक करने की प्रवृत्ति विकसित होती है। ऐसे में अगर आपको भी अपने साथी से ये शिकायत है तो कोशिश करें कि वो अपनी नींद पूरी करें।

बता दें कि महान ब्रिटिश नाटककार विलियम शेक्सपियर ने चार सदी पहले लिखे अपने नाटक मैकबेथ में नींद पूरी न होने वहम और शक करने के बीच बहुत ही गहरा रिश्ता बताया है। अब वैज्ञानिकों ने पाया है कि अच्छी नींद की कमी का व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ सकता हैष जिससे उसमें शक करने की प्रवृत्ति होने लगती है। लंदन स्थित कॉलेज के अधय्यन से भी ये बात साफ हुई है कि नींद पूरी न होना और शक करने के बीच बहुत ही सिंपल और सीधा नाता है।

यह अध्ययन जर्नल सिजोफ्रेनिया रिसर्च के नए तरीके में प्रकाशित हुआ है। प्रमुख अनुसंधानकर्ता डाक्टर डैनियल फ्रीमेन का कहना है कि यो तो हम सभी जानते हैं कि आधी नींद सोने के कारण हम पूरे दिन तनाव में रहते हैं और हमें पीरे दिन सूस्ती घेरे रहती है। कम नींद के कारण हमारे विचार करने की क्षमता अस्त व्यस्त रहती है। आदी नींद हमें दुनिया से बेखबर कर देती है। हमें किसी भी चीज का होश नहीं रहता है। ऐसे में दिमाग में शख और वहम का आना आम बात है। पूरी नींद हमारे शरीर और दिमाग दोनों के लिए बहुत जरूरी है। सर्वें में खिलासा हुआ है कि कम नींद लेने वाले 70 फीसदी लोग शक की बीमारी के शिकार होते हैं। कम नींद सोने वाले लोगों में गहरी असुरक्षा की भावना भी पाई जाती है।