जंगलों में आग लगने पर सभी हो सुरक्षित इसके लिए की गई मॉक ड्रिल

हरिद्वार। जिले के मंशा देवी मन्दिर के आसपास के क्षेत्र के जंगल में लगी आग पर आपदा प्रबंधन टीम ने काबू पा लिया है। आग बुझाने की कार्यवाही में पीएसी के दो जवान जयदीप एवं सतेन्द्र घायल हो गए है। जिन्हें उपचार हेतु एम्बुलेंस के माध्यम से जीडी अस्पताल हरिद्वार भेजा गया। यह वास्तविक घटना नहीं है, बता दें कि गुरुवार को जनपद हरिद्वार में वनाग्नि पर माॅक अभ्यास किया जा रहा था। अभ्यास के लिए ऐसा माहौल तैयार किया गया था।

अभ्यास में वाॅयरलेस के माध्यम से आपदा कंट्रोल रूम को सूचना मिली की जनपद हरिद्वार में मंशा देवी मंदिर क्षेत्र के आस-पास के जंगलों में आग लगी हुई है। जिलाधिकारी एसए मुरूगेशन ने कन्ट्रोल रूम में पहुंचकर कमान स्वयं संभाली।

मंशा देवी क्षेत्र में लगी आग को बुझाने हेतु तहसीलदार हरिद्वार के नेतृत्व में उप प्रभागीय वनाधिकारी, 31 पीएसी के जवान, 17 वन कर्मी, 18 पुलिस कर्मी, फायर ब्रिगेड से 13 कर्मी, पीआरडी से 22 जवान एवं 10 होमगार्ड जवानों की टीम एवं पशु चिकित्साधिकारी की टीम द्वारा कार्यवाही में सहयोग किया गया।

कार्यवाही के दौरान एक एम्बुलेंस का भी उपयोग किया गया। आरटीओ कार्यालय के समीप जंगलों में लगी आग पर टीम द्वारा काबू पा लिया गया है। उप जिलाधिकारी सदर के नेतृत्व में उप प्रभागीय वनाधिकारी, फायर ब्रिगेड, सिड़कुल के 10 जवान, 20 वन कर्मी, 25 पुलिस कर्मी पीआरडी एवं होमगार्ड के दस-दस जवानों की टीम द्वारा फायर, रैकर्स पाठल, फायर बिटर, वुडकटर, फावड़ा, गेंती, बेलचा, पानी के टैंकर आदि उपकरणों के सहयोग से कार्य किया।

श्यामपुर रेंज में वाॅयरलेस के माध्यम से आपदा कंट्रोल रूम को चण्डी देवी मन्दिर के गौरी शंकर डंपिंग एरिया के पीछे आग लगने की सूचना प्राप्त हुई। आपदा कंट्रोल रूम से वन विभाग एवं सिटी कंट्रोल रूम, अग्निशमन विभाग को तहसील एवं थाने को सूचित किया गया। मौके पर पहुंची टीम द्वारा आग पर को पूर्णतः बुझाा दिया गया। आग से जान-माल को कोई नुकसान नहीं हुआ तथा आग बुझाने की कार्रवाई में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।

आग को बुझाने हेतु नायब तहसीलदार हरिद्वार के नेतृत्व में रेंज अधिकारी, थानाध्यक्ष श्यामपुर, अग्निशमन अधिकारी हरिद्वार खण्ड विकास अधिकारी बहादराबाद 15 वन कर्मी, 10 पुलिस कर्मी, पीआरडी के दस एवं होमगार्ड के आठ जवानों की टीम द्वारा विभिन्न उपकरणों से आग बुझाने की कार्यवाही की गई।

टीम द्वारा कार्यवाही उपरान्त मेला नियंत्रण कक्ष स्थित स्टेजिंग एरिया पर रिपोर्टिंग की गई। वनाग्नि को रोकने के लिए मंशा देवी में तहसीलदार हरिद्वार, गौरीशंकर में बीडीओ बहादरबाद एवं रोशनाबाद में एसडीएम हरिद्वार के नेतृत्व में तीन टास्क फोर्स बनाए गए।  इसके उपरान्त कलेक्ट्रेट रोशनाबाद में समीक्षा भी की गई। घटना की कार्रवाई में जिला प्रशासन, पुलिस, आर्मी, एस. डीआरएफ, एनडीआरएफ, स्वास्थ्य, विद्युत अग्निशमन विभाग होमगार्ड, पीआरडी आदि विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा सहयोग किया गया।