तो इस वजह से हारी भारतीय महिला क्रिकेट टीम

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच होने वाले महिला विश्व कप के फाइनल में पहुंचकर भारतीय टीम हार गई। इंग्लैंड से मिली हार के बाद टीम की कप्तान मिताली राज ने मैच की हार के बारे में बातचीत करते हुए कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ रनों का पीछा करते हुए टीम इतना दबाव में आ गई थी कि मैच हार गई। साथ ही मिताली ने कहा कि हमें यहां तक पहुंचने का भी गर्व है। कि हम कड़ी मेहनत के बाद यहां तक पहुंचे। मिताली ने कहा कि जिस तरह टीम दूसरे फाइनल में पहुंची है उससे महिला क्रिकेट टीम की स्थिति बेहतर होगी और इससे खिलाड़ियों को वाजिब तवज्जो मिलेगी।

icc, womens world cup, final, india, england, mithali raj
womens world cup mithali raj

बता दें कि बीते रविवार को लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान खेले गए मैच में इंग्लैंड ने भारत को 9 रनों से हराया है। हार के बाद मिताली ने टीम पर गर्व जताया। इंग्लैंड के लिए ये मैच जीतना आसान नहीं था। लेकिन उन्होंने अपना होसला बनाए रखा जिसके लिए वो श्रेय के हकदार हैं। ऐसा नहीं है कि हमने कोशिश नहीं की मैच में ऐसा भी वक्त आया जब हम बराबरी पर थे। लेकिन हम बीच में घबरा गए और मैच हमारे हाथ से निकल गया और हम हार गए। लेकिन फिर भा मुझे अपनी टीम की लड़कियों पर गर्व है। उन्होंने किसी भी मैच को आसान नहीं बनाया। उन्होंने टूर्नामेंट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया। टीम ने सभी यंगस्टर्स ने अपना अच्छा प्रदर्शन किया है।

साथ ही मिताली ने मैदान में मौजूद समर्थकों का भी धन्यवाद कि किया। उन्होंने कहा कि मैं उन सभी समर्थकों का धन्यवाद करती हू जो यहां महिला क्रिकेट टीम का हौसला बढ़ाने आए। निश्चित रूप से यह अनुभव खिलाड़ियों की मदद करेगा। महिला क्रिकेट को लेकर अब हमारे घरों में अलग ही नजरिया है। वहीं, इंग्लैंड की कप्तान हीथर नाइट ने जीत पर खुशी जतायी। उनका कहना है कि जीतने के बाद वह अपनी मुस्कान छुपा नहीं पा रही हैं। उन्होंने साथ ही अपनी टीम की तारीफ की, जिसने दवाब की स्थिति में बिखरने की बजाए अपने आप को संभाले रखा और भारत से जीत छीन ली। इंग्लैंड ने लॉर्ड्स मैदान पर भारत के सामने 229 रनों का लक्ष्य रखा था। जिसे भारतीय टीम हासिल नहीं कर पाई और 48.4 ओवरों में 219 रन पर अपने सभी विकेट गंवा बैठी। इस तरह उसके हाथ से पहली बार विश्व विजेता बनने दूसरा मौका चला गया।