ISIS के चंगुल से भागी इखलाक ने सुनाई अपने सैक्स बंधक बनने की कहानी

नई दिल्ली। महिलाओं के लिए आईएसआईएस के अत्याचार की कहानी किसी से छूपी नहीं हैं कि उनके चंगुल में अगर कोई महिला फंस जाए तो वो किस तरह से उस महिला की जिंदगी को जहन्नुम से भी बदत्तर बना देते हैं। महिलाओं के प्रति आईएसआईएस की प्रताड़ना की खबरे पहले भी आ चुकी हैं। ये महिलाएं उनकी कैद में रहकर कई दिनों तक भूखी प्यासी रहती हैं। इनके उपर किए गए जुल्मों की दास्ता सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

rape, ISIS, six, yazidi, survivor, ekhlak, iraq, woman, story
woman six story

कई बार सामने आ चुकी हैं घटनाएं

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पहले भी बताया जा चुका है कि आरोपी महिलाओं का अपहरण करने के बाद या तो उनका बलात्‍कार करते हैं या उन्‍हें सेक्‍स स्‍लेव बना देते हैं। इसके अलावा पीड़ित महिलाओं को सीरिया के बाजारों में बोली लगाकर बेच दिया जाता है। समय-समय पर इस्‍लामिक स्‍टेट द्वारा यजीदी महिलाओं हुए अत्‍याचार की दास्‍तान सामने आती रहती है। अब फिर से एक यजीदी लड़की इखलास ने मीडिया को आपबीती सुनाई इखलास छह महीने बाद आईएसआईएस के चंगुल से मुक्‍त हुई है।

बना लिया था सेक्स बंधक

इखलाक ने अपने काले अतीत को याद करते हुए मीडिया को बताया कि वह छह महीने में हर रोज मेरा रेप करता था। मैंने अपनी जान लेने की कोशिश की। उसने बताया कि मैं उस वक्त मेरी उम्र महज 14 साल थीं जब इस्लामिक स्टेट के कथित लड़ाकों अगवा कर लिया। इसके बाद उन्‍हें सेक्स गुलाम के तौर पर बंधक बना लिया। उत्‍तरी इराक के इलाके में लंबे समय से रह रहे यजीदी समुदाय के लोग साल 2014 में इस्लामिक स्टेट के निशाने पर रहे।

रोते-रोते आंसू भी सूख गए

इस्लामिक स्टेट के चरमपंथी लड़ाकों ने पुरुषों को मौत के घाट उतारा और महिलाओं को अगवा कर लिया। इखलास ने बताया कि मेरे ऊपर इतने जुल्म हुए कि मेरे आंसू भी सूख चुके हैं। वो 6 महीने मेरे लिए नर्क से भी बदतर रहे। आतंकियों से बचने के लिए शुरू में ही माउंट सिंजर से भागने की कोशिश की, लेकिन फिर भी वो आतंकियों के चंगुल में फंस गई। महज 14 साल की उम्र में ही आतंकियों ने अगवा कर अपना सेक्स-स्लेव बना लिया था। इसके बाद लगभग हर रोज ही वो रेप और मारपीट जैसे अमानवीय घटनाओं का शिकार होने लगी।

आईएसआईएस के चंगुल से भाग निकली

इखलास ने बताया कि इस्लामिक स्टेट के एक बहुत ही बदसूरत आतंकी ने उसे 150 लड़कियों में से चुना था। लंबे बालों वाला वो शख्‍स किसी बदबूदार जानवर की तरह था, जिसे देखकर ही वो बहुत डर गई थी। एक दिन इस्लामिक स्टेट का वो आतंकी लड़ाई पर गया हुआ था और तभी उसे उसके चंगुल से भागने का मौका मिला और वो बच निकलने में कामयाब हुई। यहां से छूटने के बाद उसे एक शरणार्थी शिविर ले जाया गया।

वकील बनना चाहती थी इखलाक

इखलास कहती है कि ये सब मैं बिना रोए आपको ये सब सिर्फ इसलिए बता पा रही हूं क्योंकि मेरे आंसू ही सूख गए हैं। इखलास इस समय जर्मनी के एक मेंटल हॉस्पिटल में हैं जहां उन्हें थैरेपी देने का साथ पढ़ाया भी जा रहा है। वो भविष्य में एक लॉयर बनना चाहती है।