औरतें कैसे सीखती हैं सेक्स करने के तरीके देखें इन तस्वीरों में सेक्स करने की पोजीशन

नई दिल्ली। संभोग को लेकर औरतों में संकोच भरा होता है। जबकि हमारे प्राचीन वैदिक काल में देश में संभोग और कामकला को लेकर खुलकर चर्चाएं होती रही हैं। इन्ही चर्चाओं की देन है वात्‍स्‍यायन का कामसूत्र जो कि भारतीय काम शास्त्र का बड़ा ग्रंथ है। भारतीय जीवन शैली में सेक्स एक बड़ा भी महत्वपूर्ण विषय रहा है। स्त्री और पुरूष के बीच होने वाला ये शारीरिक रिश्ता उनके जीवन के कई रिश्तों से प्रभावित और जुड़ा होता है। dasi girl sex

स्त्री और पुरूष के इसी मिलन को विस्तार से आचार्य वात्‍स्‍यायन ने भारतीय परिवेश में समझने के लिए और सीखने के लिए कामसूत्र नामक एक सार्गर्भित ग्रन्थ की रचना की है। इसके जरिए स्त्री और पुरूष जीवन में हर पक्ष को जान और समझ सकते हैं। इसके साथ ही वे जीवन में कैसे रस लाएं इसे सीख सकते हैं। व्यस्तता और भागदौड़ की इस जिन्दगी में इंसान को शारीरिक और मानसिक सुख की आवश्यकता होती है। देखा जाये तो ये सुख केवल स्त्री और पुरूष के मिलन के दौरान होने वाली सेक्ससुवल घटनाओं से सबसे ज्यादा मिलता है। village women sex

वैज्ञानिक शोधों में भी आया है कि अगर आप जीवन में तनाव मुक्त रहना चाहते हैं तो सेक्स को अपने जिन्दगी के एक बड़े हिस्से के तौर पर अपनाएं। लेकिन अब बात सबसे बड़ी होती है कि सेक्स में जबतक नयापन नहीं होता तो पार्टनर एक दूसरे के प्रति आकर्षित नहीं होते हैं। कामसूत्र में आचार्य वात्स्यायन ने सेक्स करने की इन्ही क्रियाओं का विस्तार से वर्णन किया है। indian women sex

कामसूत्र में 64 कलाएं वर्णित की गई हैं। जिसको जानकर और सीख कर आप कामकला या रतिक्रीड़ा में निपुण हो सकते हैं। वात्स्यान की माने तो कामकला में स्त्री को निपुण होना बहुत आवश्यक होता है, क्योंकि वो ही परिवार के संचालन की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाती हैं। क्योंकि अगर स्त्री अपने पति को बिस्तर पर संतुष्ट नहीं कर पाती तो उससे दांपत्य जीवन में स्थिरता नहीं आती है।Animal sex

इसलिए स्‍त्री को विवाह से पहले पिता के घर में पिता से और विवाह के पश्‍चात पति से काम कला को सीखने की अनुमति लेनी चाहिए। क्योंकि अगर स्त्री अपने पति के साथ उन्मुक्त अवस्था में संगोभ के जरिए आकर्षण पैदा करती है तो वह पुरूष किसी और स्त्री की ओर कभी आकर्षित नहीं हो पाता है। इसीलिए कामसूत्र की ये 64 कलाओं का हर एक स्त्री को विश्वासपात्र व्यक्ति के सम्पर्क में एकांत में अभ्यास करना चाहिए।

स्त्री के साथ पिता और पति दो परिवारों की इज्जत जुड़ी होती है। इसलिए उसे इस कला को जानने और सीखने के लिए विश्वासपात्र व्यक्ति की आवश्यकता होती है। इसलिए कुछ खास विश्वासपात्र रिश्तों का जिक्र कामसूत्र में आता है। पहला कुंवारी स्त्री या कन्या को किसी ऐसी नवविवाहिता मित्र जो कि उसके साथ खेलती और साथ रहती रही हो इसके अलावा वह पुरूष संभोग से परिचित हो उससे ये कलाएं सीखनी और जाननी चाहिए। इसके साथ ही हम उम्र मौसी, अधेड़ या बुढि़या दासी, बड़ी बहन, ननद या भाभी के साथ वह कामकला को सीख सकती है जान सकती है।

अपने पति को बिस्तर पर आप कैसे सुख दे सकती हैं ये जानने के लिए काम कला में निपुण होना जरूरी होता है। इसके लिए हर स्त्री को कामक्रीड़ा को करीब से जानना और सीखना चाहिए।

12 विशेष तरह के आसन होते हैं जिसके जरिए सेक्स का असीम खुश प्राप्त किया जा सकता है। आप भी आगे के पेज पर इन आसनों का सचित्र देख सकते हैं । इसके साथ ही इन आसनों के जरिए आप भी सेक्स के असीम सुखों को प्राप्त कर सकते हैं।

Pages: 1 2