देखें विडियो में कैसा दिखता है भगवान भोलेनाथ का कैलाश पर्वत

नई दिल्ली। भारत की ओर से कल ही कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए विदेश मंत्रालय से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पहले जत्थे को रवाना किया है। हिन्दू धर्म में कैलाश का स्थान इतना बड़ा है। जिसके बारे में कुछ कहना असम्भव प्रतीत होता है। ंकैलाश भगवान भोलेनाथ शिवशंकर का निवास स्थान माना जाता है।

मान्यता है कि भगवान भोलेनाथ सपरिवार कैलाश की कंदराओं में वास करते हैं। भगवान भोलेनाथ का निवास स्थान सर्दीली चोटियों के ऊपर एक गोलाकार पर्वत शिखर है। जिसे माउंट कैलाश या कैलाश पर्वत के नाम से जाना जाता है। पहले ये तिब्बत में आता था। अब चीन के अधिकार क्षेत्र में ये पर्वत माला आती है।

इसलिए हर साल यहां पर आयोजित होने वाली यात्रा के लिए विदेश मंत्रालय के जरिए आवेदन करना होता है। दुर्गम पर्वत माला और चढ़ाई होने के चलते यहां जाने के पहले पूरा मेडिकल चेकप होता है। फिट होने पर ही प्रमाण पत्र लेकर जाना होता है। इसके लिए पूरी कागजी प्रक्रिया से ंगुजरने के बाद ही जाया जा सकता है।

यहां ंपर यात्री को जब दूर से सुबह के वक्त कैलाश के दर्शन होते हैं। तो मानो भक्त का जीवन धन्य हो जाता है। सूर्य की किरण जब कैलाश पर पड़ती है तो पूरा पर्वत ेसोने का दिखने लगता है। तभी प्रतीत होता है कि यह कोई आम पर्वत नहीं है यही है बाबा भोले नाथ का कैलाश…