ज्यादा प्यार से हो सकता है सिर में दर्द: जाने कैसे

नई दिल्ली। पति पत्नी का रिश्ता बहुत ही नाजूक डोर से बंधा होता है। जो हल्के से झटके से भी टूट जाता है। जैसे जैसे वक्त बीतता जाता है पति पत्नी का रिश्ता और भी मजबूत होता जाता है। जहां इस रिश्ते में किसी कारण से जहर घुल जाता तो वहीं इस रिश्ते में हद से ज्यादा प्यार होने से ये सिर का दर्द भी बन जाता है। दरअसल जब आपका पार्टनर आपसे बहुत प्यार करता है तो वो भी आपसे उतने ही प्यार की उम्मीद रखता है। लेकिन परेशानी तब होती है जब आपका पार्टनर आपकी बातों को समझ नहीं पाता। ऐसे में आपका रिश्ताल मुश्किल में पड़ जाता है।

बता दें कि ऐसी स्थिति में दोनों ही एक दूसरे के लिए गलत सोचने लगते हैं। एक को लगता है कि उस के प्यार की कोई अहमियत नहीं, तो दूसरा सोचता है कि उस का पार्टनर उस की पूरी आजादी छीन रहा है। ऐसे में दोनों के बीच दूरी आने लगती है। नौबत यहां तक आ जाती है कि एक दूसरे से अलग होना पड़ जाता है।

आपको ये सब झेलना न पड़े इसलिए ध्यान दें इन बातों पर

हमेंशा अपने पार्टनर पर नज़र न रखे– अकसर ऐसा देखा जाता है कि जब हम किसी से प्यार करते हैं तो उसके हर पल पर नज़र रखना चाहते हैं। ये जानने की कोशिश करते हैं कि वो कब क्या करता है। इसके लिए हम हर पल अपने पार्टनर पर नज़र रखने लगते हैं। ज्यादा प्यार दोनों के बीच दूरिया आने लगती हैं। क्योंकि आप हर वक्त उसने खाने पीने सोने नहाने कहीं आने जाने हर चीज पर ध्यान रखती हैं। ऐसे में आपके पार्टनर को अपनी आजादी छीनती नज़र आने लगती है। वो खुद को एक बंधन में बंधा हुआ महसूस करने लगता है।

अपने रिश्ते को थोड़ा स्पेस दें– रिश्ता चाहे कोई भी हो, उस में स्पेस बेहद जरूरी है वरना उस रिश्ते का ज्यादा दिन टिक पाना मुश्किल है। स्पेस न देने से प्यार कम हो जाता है और लड़ाई झगड़े बढ़ते जाते हैं, जिस से नजदीकियों के बजाय रिश्ते में दूरियां पैदा होती जाती हैं।

पार्टनर पर हक न जताएं- जब प्यार में स्पेस खत्म होती जाती है तो पार्टनर अपने व्यक्तित्व को खो देता है, साथ ही उस का मानसिक संतुलन भी बिगड़ता दिखता है। उसे बातबात पर गुस्सा आने लगता है, जिस की वजह से स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है। छोटीछोटी बात पर बहस आम बात बन जाती है। साथी पर हर वक्त हक जताना उसे गुस्सैल बना देता है।

हमेशा पार्टनर के साथ रहना– ज्यादा प्यार करने वालों की यही कोशिश रहती है कि उन का पार्टनर हर जगह उन के साथ रहे, लेकिन यह भी हो सकता है कि पार्टनर का कभी दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ जाने का मन हो। ऐसे में आप का प्यार उस के लिए सजा भी बन सकता है और वो आपसे दूर भी हो सकता है।

उम्मीद की हो सीमा– कई बार हम अपने पार्टनर से हद से ज्यादा उम्मीद करने लगते हैं कि वह यदि मुझ से प्यार करता है तो मेरी हर उम्मीद पर खरा उतरेगा। जितना आप उस से प्यार करते हैं उतना ही वह भी आप से प्यार करे, यह आप के पार्टनर को बंधन में होने जैसा लगने लगता है। वह खुद को इस से निकालने की कोशिश में लग जाता है।

शक को न दें जगह– जरूरी नहीं कि आप का पार्टनर हर छोटी से छोटी बात भी आप से पूछ कर करे। लेकिन आप उस से उम्मीद करने लगते हैं कि वह कोई भी कार्य आप से पूछ कर ही करे। आप के द्वारा हर समय फोन करते रहना कि आप का पार्टनर क्या कर रहा है, उस पर शक करते रहना, उस की हर छोटीबड़ी बात की खबर रखना आप के पार्टनर को चिड़चिड़ा बना देता है।

रिश्ते में करीबियां लीमिट से हो– हद से ज्यादा नजदीकी होने पर एक दूसरे के साथ तकरार होने की संभावना भी काफी बढ़ जाती है, क्योंकि हक जताना कभी कभी आदेश देने में बदल जाता है। इसलिए अपने पार्टनर को प्यार दें न कि अधिक प्यार। उसे खुद समझने दें कि आप की और आप के रिश्ते की क्या अहमियत है।