अद्भुत है बृज की होली, कान्हा के साथ रसिया बनते लोग

पूरे देश में होली की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। कान्हा की नगरी मथुरा के प्रसिद्ध श्री द्वारिकाधीश मंदिर में होली का त्योहार बड़े ही हर्षाेल्लास के साथ मनाया जाता है। यहां पर कई तरह से भगवान श्रीकृष्ण के साथ लोग दूर दूर से होली मनाने के लिए आते हैं।

 

भगवान द्वारिकाधीश को होली के गीत यानी रसिया बरसाने जाने के लिए भक्तो के द्वारा सुनाये जाते है। वैसे तो ब्रज में होली का आगाज बसंत पंचमी के दिन से ही शरू हो जाता है इसी क्रम में अब बृज मंडल के प्रसिद्द द्वारिकाधीश मंदिर में होली रसिया गायन शुरू हो चुका है। श्रद्धालु भी होली रसिया गायन पर होली की मस्ती में डूब रहे है।

द्वारिकाधीश मंदिर में भगवान कृष्णा का बाल स्वरूप है यही कारण है भगवान को होली का आभास कराने के लिए यहाँ भगवान को राग भोग के बाद रसिया सुना कर होली के लिए तैयार किया जाता है। इस गायन को परंपरागत तौर से गाया जाता है पहले भगवान के चरणों में गुलाल का तिलक लगाया जाता है और फिर शुरू होता है रसिया गायन। इस गायन में चतुर्वेदी समाज के लोग ढोल नगाड़े झांज मजीरा बजा कर इस गायन की शुरुआत करते है। यह गायन भगवान को होली के दिन तक सुनाया जाता है जिसे सुनकर भगवान के भक्त मस्ती में झूम उठते है।