कार से टक्कर होने पर बीजेपी नेता ने रोकी एंबुलेंस, मरीज की मौत

नई दिल्ली। फतेहाबाद में एक बीजेपी के नेता की दंबगई ने एक मरीज को मौत के घाट उतार दिया। दरअसल मामला बीजेपी के नेता द्वारा एंबुलेंस का पीछे करने का है जिसमें एक मरीज सवार था। बीजेपी नेता फतेहाबाद नगर परिषद का का प्रधान है। प्रधान दर्शननागपात की हरकत से मरीज के परिजनों ने कानूनी कार्रवाई की मांग की है। दरअसल मरीज की हालत उस वक्त बिगड़ी जब वो नवीन की दुकान पर बैठा था। दुकान पर बैठे-बैठे दिन में दर्द की परेशानी होने से उसकी हालत बिगड़ने लगी। तबीयत बिगड़ने पर घर वाले उसे अस्पताल ले गए। वहां से डॉक्टरों ने मरीज को रदूसरे अस्पताल में रेफर कर दिया।

hisar, man, died, bjp leader, fatehabad, Ambulances, Patient
Ambulances Patient

बता दें कि पुलिस का कहना है कि जिस वक्त परिजन मरीज को अस्पताल ले जा रहे थे तो होमगार्ड गार्ड का इशारा पाते ही ड्राइवर ने गाड़ी लालबत्ती चौक से गाड़ी को चौक से निकालने की कोशिश की इसी कोशिश में एंबुलेंस बीजेपी नेता दर्शन नागपाल की गाड़ी से हल्की सी टकरा गई। ड्राइवर का कहना है कि मरीज की हालत सीरियस होने के कारण उसने एंबुलेंस को चौक से निकालने की कोशिश की। इसके बाद हल्की सी टक्कर लगने पर दर्शन ने एंबुंलेस का पीछा करना शुरू कर दिया और शहर में बस स्टैंड के पास प्रधान की गाड़ी एंबुलेस के सामने आकर रूक गई।

सोनू का कहना है कि एंबुलेस रूकने के फौरन बाद प्रधान और एक अन्य आदमी उनके करीब आए और उन्होंने हमें गाड़ी से उतरने को कहा गाड़ी से उतरने के बाद उन्हेंने टक्कर लगने को लेकर झगड़ा शुरू कर दिया। गाड़ी की टूट फूट की भरपाई पर भी प्रधान नहीं माना और एंबुलेंस की चाबी निकाल कर खड़ा हो गया। चाबी के बार-बार मांगने पर प्रधान 20 मिनट तक लगातार झगड़ा करता रहा। इसके बाद लोगों के समझाने पर परिजनों ने मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

साथ ही परिजन नवीन की मौत का जिम्मेदार प्रधान दर्शन नागपाल को मान रहे हैं। जिसके लिए परिजन नागपाल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। परिजनों ने नागपाल के खिलाफ शहर के थाने में शिकायत भी दर्ज कराई है। पुलिस का कहना है कि पूरे मामले की जांच के बाद ही उचित कार्रवाई का जाएगी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।