हिंदू-मुस्लिम हुए एक रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोध : बरेली

उत्तर प्रदेश। बरेली में हिंदू-मुस्लिम एक हो गए है,लेकिन अक्सर देखा जाता है की हिंदू मुस्लिम एक दूसरे के आमने सामने खड़े हुए दिखाई देते है लेकिन बरेली के प्रेमनगर में कुछ हिंदू और मुस्लिम एक साथ हो गए है इन लोगों ने सहरी की नमाज के समय लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करने का विरोध किया और इसकी शिकायत को लेकर प्रशासन के पास पहुंचे है। बरेली के प्रेमनगर में कुल सात मस्जिदें है और सभी मस्जिदों में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जाता है। प्रशासन को शिकायत मिलने के बाद इसकी जांच के लिए मस्जिदों के मौलानाओं बातचीत की करने के लिए कह दिया है,जिसके बाद मस्जिदों को निर्देश दिए है की वो लाउडस्पीकरों को उतार लें या फिर उनकी अवाज को बंद कर दें।

आपको बता दें की सुप्रीम कोर्ट की गाइडलांस है की रात के दस बजे से सुबह छह बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करना मना है। अनुच्छेद 21 के अनुसार कहा गया है की शांति से सोना मौलिक अधिकार है,सोने में खलल देना प्रताड़ना के समान है,यह मानवाधिकार उल्लंघन में आता है।

आपको बता दें की मुस्लिमों के लिए लाउडस्पीकर का विरोध करना कुछ ज्यादा मुश्किल रहा क्योंकि कुछ मुस्लिमों ने लाउडस्पीकर का विरोध कर मुस्लिमों को कहा की तुम नरक में जाओगे और उन लोगों को मारा भी।