चुनावी जहाज पर हरीश रावत

रूड़की। जैसे-जैसे चुनावो की तारीखों की घोषणा का समय नज़दीक आता जा रहा है सूबे के मुखिया हरीश रावत उससे पहले ही हरिद्वार ज़िले की अलग-अलग विधानसभाओ में जनसभाएं कर नई-नई घोषणाए करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाह रहे है। इस मामले में अगर बात बागी विधायकों की हो तो उनके क्षेत्र में वो खासतौर से मतदाताओं को लामबंद करने का कोई मौक़ा नहीं चूकना चाहते है।

इसी कड़ी में आज हरीश रावत ने खानपुर विधानसभा के ढंढेरा में आयोजित सर्वसमाज महासम्मेलन में जहाँ एक और इलाके के वरिष्ठ बसपा व् भाजपा के नेताओ और जनप्रतिनिधयों को उनके सैकड़ो समर्थको के साथ कांग्रेस में शामिल कराकर अपनी पार्टी के कुनबे में इजाफा किया वही गाँव ढंढेरा को नगर पंचायत का दर्जा देने की भी घोषणा कर दी ।

अपने संबोधन में प्रदेश के मुखिया ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि दोहरे रंग के झंडे वाले लोगो की इस सूबे में सात साल सरकार रही लेकिन उन्होंने जो काम सात सालों में नहीं कराया उससे ज़्यादा मेरी सरकार ने महज एक साल के भीतर करा डाला। लोगो से उन्होंने मंच से अपील की क़ि विकास के लिये और तक़दीर बदलने के लिये वो उन्हें वोट दे।

सुप्रीम कोर्ट के जाति-धर्म आधारित वोट मांगने के राजनैतिक पार्टियों के तरीके को प्रतिबंधित करने के ताज़ा आदेश के बावजूद हरीश रावत ने जाति-समुदाय के आधार पर वोटरों को लुभाते हुए किया गए कामो को रेखांकित किया शायद वो सुप्रीम कोर्ट के हालिया निर्देश को भूल गए है।

शकील अनवर, संवाददाता