पुराने साथी ने सरकारी गवाह बनकर दिया हार्दिक पटेल को झटका

नई दिल्ली। पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल को एक बड़ा झटका लगा है। आंदोलन शुरू होने से उनके साथ रहे उनके पूराने साथी केतन को कोर्ट ने राष्ट्रद्रोह के आरोप से बरी कर दिया है। वहीं केतन को कोर्ट की तरफ से सरकारी गवाह बनने की भी इजाजत मिल गई है ऐसे में हार्दिक को एक बड़ा झटका लगा है। गौरतलब है कि हार्दिक पटेल और उसके चार साथियों पर आंदोलन के दौरान राष्ट्रद्रोह का आरोप लगा कर गुजरात पुलिस ने 9 महीने तक जेल में बंद रखा था। हार्दिक ओर उसके साथी फिलहाल जमानत पर रिहा हैं।

hardik patel, old friend, govt witness, Patidar Anmata Movement
hardik patel

बता दें कि एक वक्त था जब हार्दिक पटेल ओर केतन पटेल को पाटीदार आंदोलन की नींव कहा जाता था। दोनों ही आंदोलन को आगे ले जाने के लिए हमेशा एक दूसरे के साथ रहते थे। जमानत पर रिहा होने के बाद हार्दिक पटेल और केतन पटेल ने एक-दूसरे का साथ छोड़ दिया और तब से ही आरोप प्रत्यारोप की राजनीति जारी है। हालांकि, अब केतन के सरकारी गवाह बनने से हार्दिक के लिए फैसले और रणनीति की पूरी जानकारी कोर्ट तक पहुंचेगी। जिसकी वजह से गुजरात चुनाव के वक्त पर हार्दिक की मुसीबतें और भी बढ़ सकती हैं।

वहीं यहां हम आपको बता दें कि हार्दिक पटेल फिलहाल पाटन में लूट और मारपीट के केस में तीन दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। आज पाटन पुलिस उन्हें कोर्ट में पेश करेगी। ऐसे में अगर केतन के बयान पर कार्रवाई होती है तो हार्दिक पटेल को लंबे समय तक जेल में रहना पड़ सकता है।