अवैध संपत्ति रखने वाले बाबू के ठिकानों पर आंध्रप्रेदश करप्शन ब्यूरो की छापेमारी, जाने कितनी संपत्ति मिली

नई दिल्ली। 500 करोड़ की अवैध संपत्ति रखने के आरोप में फंसे सरकारी कर्मचारी गोल्ला वेंकटा रघुरामी रेड्डी के ठिकानों पर आंध्रप्रेदश करप्शन ब्यूरो ने आज भी कई जगह छापेमारी की है। जांच में सामने आया है कि छापेमारी से पहले तीन दिन बाद रिटायर वाला था और विदेश में भव्य पार्टी देने की उसकी तैयारी थी। रेड्डी ने सिंगापुर, मलेशिया और हांगकांग में पार्टी प्लान की थी। इसके लिए उसने खुद प्लेन के टिकट्स भी बुक कराए थे। रेड में एसीबी को टिकटों का बंडल मिला है। ये सभी टिकट उसके करीबियों के नाम पर बुक हैं।

government, officer, reddy, raid, anti corruption bureau, hyderabad
hyderabad

बता दें कि आय से ज्यादा संपत्ति होने के शक में आंध्रप्रदेश एंटी करप्शन ब्यूरो ने रेड्डी के 15 ठिकानों पर छापेमारी की। एसीबी ने जब विशाखापट्टनम, विजयवाड़ा, तिरुपति और महाराष्ट्र के शिरडी में उसके ठिकानों की तलाशी ली तो उसकी संपत्ति देख हैरान रह गए। गोल्ला वेंकटा रघुरामी रेड्डी विशाखापट्टनम नगर पालिका प्रशासन विभाग में स्टेट टाउन प्लानिंग में डायरेक्टर पद पर है। उसकी सैलरी एक लाख रुपए प्रति माह बताई जा रही है। ऐसे में उसके पास 500 करोड़ रुपए की संपत्ति कैसे आई इसकी जांच एसीबी कर रही है।

वहीं जांच में यह भी पता लगा कि रेड्डी ने पद का गलत इस्तेमाल करते हुए अपने कजिन भाई एनवीएस प्रसाद को विजयवाड़ा नगर निगम में जूनियर टेक्नीकल ऑफिसर के रूप में पदस्थ किया था। वह अपने भाई के रास्ते काली कमाई करता था और पैसों को पत्नी गायत्री और भाई शिवाप्रसाद के नाम रखता था।