गोवा पुल हादसे में गोताखोरों ने शुरू किया बचाव अभियान

गोवा। गोवा में पुल ढहने की घटना से लापाता लोगों को ढूढ़ने के लिए गोताखोरों ने बचाव और तलाश अभियान शुरू कर दिया है। इस घटना से नदी में कम से कम दो लोगों के डूबने की आशंका है। दक्षिण गोवा जिले में पुल उस समय ढह गया था जब आत्महत्या करने की कोशिश कर रहे एक व्यक्ति को देखने के लिए कई लोग वहां जमा हो गए थे। हादसे में दो लोगों की नदी में डूबने से मौत हो गई और करीब 20 लोग सुरक्षित बाहर आ गए। 14 लोगों को बचा लिया गया है और उन्हें पास के अस्पतालों में ले जाया गया है। पुलिस अधीक्षक शेखर प्रभुदेसाई ने कहा कि बचाव अभियान सुबह साढ़े सात बजे शुरू हुआ और यह पता करने की कोशिश की जा रही है कि नदी में और शब तो नहीं है।

बता दें कि रात में दिखाई न देने की वजह से तलाश अभियान को करीब आधी रात को बंद कर दिया था। भारतीय नौसेना और गोवा के समुद्री तटों पर तैनाती करने वाली एक निजी एजेंसी के गोताखोरों ने शवों की तलाशी का काम शुरू कर दिया है। भारतीय नौसेना के एक प्रवक्ता ने कहा कि पुल के ढहे हिस्से को कल रात हटा दिया गया था। उनहोंने कहा कि ‘गोताखोरी को देर रात करीब साढ़े तीन बजे रोक दिया गया था। गोताखोरी अभियान आज सुबह फिर से शुरू किया गया।’ उन्होंने कहा कि इस नदी में मगरमच्छों के होने की जानकारी के कारण गोतोखोरों की सुरक्षा के लिए सावधानी बरती जा रही है।

साथ ही स्थानीय जानकारी के अनुसार दो और लोगों के लापता होने की आशंका है। हवाई मार्ग से तलाश के लिए नदी के उपर एक हेलिकॉप्टर भी उड़ान भर रहा है।’ राज्य पुलिस ने पुष्टि की कि नदी से 14 लोगों को बचा कर विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। संवोर्देम नदी पर पुर्तगालियों के समय का बना पुल पिछले साल से यातायात के लिए बंद था। जब दमकल और आपात सेवाकर्मी आत्महत्या की कोशिश कर रहे युवक को बचाने में व्यस्त थे तब करीब 50 लोग पुल पर खड़े होकर उनके प्रयास देख रहे थे। तभी पुल इतना भार सहन नहीं कर पाने के कारण ढह गया और लोग नदी में गिर गए।