घरवालों ने की लड़की को तार-तार, अश्लील वीडियो वायरल करने वाला हुआ गिरफ्तार

लड़की को बहला फुसला कर उनकी न्यूड फोटो सोशल साइट्स पर वायरल करने वाले 3 आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लेकर जेल भेज दिया है। हैरानी का बात यह है कि घटना को अंजाम आस्तीन के सांप यानी घर के ही कुछ सदस्य हैं। जिनमें लड़की के जीजा उनका मामा और ममेरा भाई शामिल है। पुरे मामले को खोलने में पुलिस को काफी मेहनत का करनी पड़ी।

दरसल मामला वर्ष 2016 के जुलाई माहीने का है। यहां शहर के एक चर्चित होटल में शाहबाद का रहने वाला सिंकू नाम का युवक अपनी गर्लफ्रेंड को लेकर पहुंचा और वहा उसने चुपके से कोल्डड्रिंक में कुछ नशीला पदार्थ खिलाकर उसे अचेत कर दिया। ऐसे में युवक ने उसकी न्यूड फोटो और वीडियो बना लिए। ऐसे में आरोपी लड़की को ब्लैकमेन करने लगा और इसी को आधार बनाकर आरोपी ने पीड़िता के साथ संबंध बना लिए।

आरोपी लड़के ने कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया और इस बीच लड़की उसकी वीडियो और फोटो हासिल कर लिया। साथ ही लड़के के साथ सारे रिश्ते खत्म कर दिए। लेकिन लड़के के पास कुछ फोटो अभी भी पड़े हुए थे और आरोपी ने पीड़िता के सारे न्यूड फोटो कोसोशल साईट पर वायरल किया। ऐसे में पीड़िता ना पुलिस को इस बात की शिकायत दी।

शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने सिंकू के जेल भेज दिया। हालांकि इसके बाद भी फोटो और वीडियो का वायरल होना नहीं थमा और लिहाजा इसकी शिकायत फिर से पुलिस के आलाधिकारियों के पास की गई। ऐसे में पुलिस के पास एक बड़ी चुनौती सामने आ गई क्योंकि आरोपी तो जेल में बंद था तो इस घटना को अंजाम दे कौन रहा था? यह सवाल पुलिस को बार-बार तंग कर रहा था।

जिसके बाद मोर्चा डीएम शुभ्रा सक्सेना ने संभाला और कैर्लिफोनिया में फेसबुक के हेडऑफिस के द्वारा आईडी बंद करवा दिया गया। लेकिन फोटो और वीडियो का वायरल होना अभी भी जारी था। लिहाज़ा दोबारा से पुलिस ने तफ्तीश की तो पाया की सिंकू द्वारा लड़कियों की बनाई गयी न्यूड फोटो और वीडियो वाला मेमोरी कार्ड जो लड़की के पास था वो उसने अपनी बहन के पास सुरक्षित रख दिया था, जो उसके जीजा अतुल गुप्ता के हाथ लग गया, चूंकि पति -पत्नी में रिश्ते अच्छे नहीं थे लिहाजा अपनी पत्नी की बहन की इज्जत को नीलान करने का काम खुद उसका जीजा कर रहा था। वही इस काम में उसका मामा बलराम गुप्ता तथा ममेरा भाई प्रमोद गुप्ता उनका साथ दे रहा था जिसकी वजह ब्लैकमेल किया जा रहा था। लेकिन पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी आरोपियों को हिरासत में ले लिया।