फिर उठी पाक में बलूचिस्तान और गिलगित को अलग करने की मांग

नई दिल्ली। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भले ही भारत में अशांति फैलाने में लगा हो, लेकिन खुद भी अपने देश में गृहयुद्ध जैसी स्थितियों का सामना कर रहा है। बलूचिस्तान और गिलगित में पाक सरकार के खिलाफ आम लोगों और राजनेताओं में गुस्सा लगातार बढ़ रहा है। लोग कई बार पाक के ऊपर स्वतंत्रता के हनन का आरोप लगा चुके हैं। ये पाक की सरपरस्ती से अलग हटकर नये राष्ट्र की मांग तक कर चुके हैं।

बलूचिस्तान और गिलगित में लगातार पाक के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। स्कर्दू में आयोजित एक रैली में पाकिस्‍तान पीपुल्‍स पार्टी के नेता अमजद हुसैन लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि गिलगित बल्टीस्तान जमीन के मालकियत यहां के लोगों की है। उन्‍हें सरकारी परियोजनाओं के लिए इस तरह से नहीं लिया जा सकता। गौरतलब हो कि गिलगिल-बाल्टिस्‍तान के लोग चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर के बनाये जाने को लेकर कई बार अपना विरोध दर्ज करा चुके हैं। इस मामले में भारत ने भी अपना विरोध पहले ही दर्ज कराया था। क्योंकि ये प्रोजेक्ट सामरिक दृष्टि से भारत के लिए बड़ा खतरा है।

इसके साथ ही रैली को सम्बोधित करते हुए अमजद हुसैन ने कहा कि पाक सरकार को यहां के लोगों के साथ इंसानों जैसा व्यवहार करना चाहिए। हांलाकि गिलगित में इस तरह लोगों के एकत्रित होने और रैलियां करने पर पाक सरकार ने प्रतिबंध लगा रखा है। इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोग यहां आये और उन्होने ने अपनी आवाज को बुलंद किया।