नाबालिग किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस का ढुलमुल रवैया

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश मे पिछली सरकार में कानून व्यवस्था एवं महिलाओं पर होने वाले अपराधों का हवाला देकर भाजपा चुनाव तो जीत गयी पर हमीरपुर मे अब भी महिला अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं,दबंग व अपराधी अब भी उतने ही सक्रिय होकर घटनाओं को अंजाम देने मे लगे हैं पर पुलिस कोई भी कार्यवाही नहीं करती है जिससे लोग भय से ग्रसित हैं।

हमीरपुर जनपद की राठ कोतवाली के एक गांव मे अपने ताऊ के साथ रह रही एक नाबालिग किशोरी के साथ गांव के ही पांच लोगों ने घर मे घुसकर किशोरी को दबोचकर दुष्कर्म की कोशिश की तभी किशोरी के शोर मचाने पर सभी आरोपी जान से मारने की धमकी देते हुये मौके से भाग निकले जिसकी शिकायत राठ कोतवाली मे करने पर भी पुलिस ने बिना कोई कार्यवाही किये पीडितों को थाने से भगा दिया।

पीडित किशोरी का परिवार बेहद गरीब था जिस कारण उसके माता पिता दिल्ली मे रहकर मजदूरी करते थे और उन्होने पुत्री की देखभाल की जिम्मेदारी अपने बडे भाई को दे रखी थी जिसको गांव के ही दबंग सोनू ,अंगद व रामदास अक्सर परेशान करते रहते थे जिन्होने अपने दो अन्य अज्ञात साथियों के साथ मिलकर पीडित किशोरी को अकेला पाकर घर मे बुरी नीयत से घुसकर दबोचकर दुष्कर्म की कोशिश की ,आरोपियों का दुष्कर्म करने का प्रयास उस वक्त असफल हो गया जब किशोरी के शोर मचाने पर उसके ताऊ ने आरोपियों को ललकारा तब सभी आरोपी जान से मारने की धमकी देते हुये भाग गये।

इधर राठ कोतवाली पुलिस का किशोरी की शिकायत पर भी कार्यवाही न करना किसी के गले नही उतर रहा है क्योंकि पहले तो यह कहा जाता था कि पिछली सरकार का कानून व्यवस्था पर नियंत्रण नही है पर अब तो निजाम भी बदल गया और सरकार के साथ सरकारी अमला भी दूसरी पार्टी के पास पंहुच गया पर न तो शोषण बंद हुये और न ही छेडखानी की घटनायें और न ही पुलिस बदली।

 -सन्तोष चक्रवर्ती