आजादी से हैं बॉलीवुड का ये गहरा नाता

नई दिल्ली। देश में कब कब युद्ध हुए देश कैसे आजाद हुआ किन शहीदों ने बली दी इन सभी पर बॉलीवुड फिल्में बना चुका है। लेकिन भारत की आजादी से जुड़े दो विषय ऐसे हैं आजादी और देशभक्ति जिनका बॉलीवुस से एक अलग सा ही जुड़ाव है। बॉलीवुड के खई सितारों ने देश के शहीदों की भूमिका को फिल्मों के जरिए इतनी खूबसूरती से निभाया कि उनकी वजह से देश का हर एक नागरिक देश के शहीदों के नाम से परिचित है और इसकी सबसे बड़ी वजह है बॉलीवुड फिल्में फिल्मों के जरिए उस वक्त को इतने अच्छे से पेश किया जाता है कि हम खूद को उस वक्त में पहुंचा हुआ महसूस करने लगते हैं। ये फिल्में हमे बताती हैं कि देश को कितने संघर्ष करने के बाद आजादी मिली है।

bollywood

बता दें कि 1964 में आई फिल्म ‘हकीकत’ 1962 में भारत और चाइना के बीच हुए युद्ध पर आधारित फिल्म है। इस फिल्म को चेतन आनंद ने बनाया था। इस फिल्म को देख कर देश को 1962 के दौर की झलक बड़े पर्दे पर देखने को मिली थी।

शहीद

वहीं फिल्म ‘शहीद’ 1965 में रिलीज की गई थी। यह फिल्म शहीद भगत सिंद की जिंदगी पर आधारित थी। फिल्म में आजादी के संघर्ष को बखूबी दिखाया गया। इस फिल्म को केवल कश्यप ने प्रड्यूस किया था और फिल्म को एस. राम शर्मा ने डायरेक्ट किया गया था। इस फिल्म में मनोज कुमार ने शहीद भगत सिंह का किरदार निभाया था और प्रेम चोपड़ा ने शहीद सुखदेव की भूमिका निभाई थी। फिल्म ‘शहीद’ ने हिंदी की सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार जीता था।

गांधी

फिल्म ‘गांधी’ 1982 में रिलीज की गई थी। फिल्म की कहानी राष्ट्रपिता मोहनदास करमचंद गांधी पर आधारित थी। बता दें कि इस फिल्म में गांधी की भूमिका किसी भारतीय कलाकार ने नहीं निभाई थी, बल्कि फिल्म में ब्रिटिश एक्टर सर बेन किंग्सले ने यह भूमिका निभाई थी। इस फिल्म को सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उपकार

1967 में रिलीज हुई फिल्म ‘उपकार’ को मशहूर एक्टर मनोज कुमार ने निर्देशित किया था। फिल्म को लोगों द्वारा काफी पसंद किया गया था. फिल्म लोगों को इतनी पसंद आई की इस फिल्म ने 3 राष्ट्रीय पुरस्कार और 6 फिल्मफेयर पुरस्कार अपने नाम किए। यह फिल्म ‘जय जवान, जय किसान’ के नारे से प्रेरित है।

बॉर्डर

फिल्म ‘बॉडर’ 1997 में रिलीज की गई थी और इसकी कहानी 1971 में भारत-पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध के दौरान राजस्थान में लड़ी गई लड़ाई पर आधारित थी। यह फिल्म बॉडर की सच्ची घटनाओं से प्रेरित थी। फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह पंजाब रेजिमेंट ने मेजर कुवदीप सिंह चांदपुरी के नेतृत्व में पाकिस्तानी सेना की पूरी टैंक रेजिमेंट के खिलाफ अपनी पोस्ट को बचाए रखा था।

द लेजेंड ऑफ भगत सिंह

शहीद भगत सिंह भारतीय सिनेमा जगत के पंसदीदा स्वतंत्रता सेनानी रहे हैं। उन पर फिल्म जगत के ज्यादातर फिल्ममेर ने फिल्म बनाने का सपना देखा था। 2002 में आई फिल्म ‘द लेजेंड ऑफ भगत सिंह’ को राजकुमार संतोषी ने निर्देशित किया था। इस फिल्म ने एक बार फिर लोगों की जुबान पर शहीद भगत सिंह का नाम चढ़ा दिया था। फिल्म में अजय देवग ने भगत सिंह के किरदार को निभाया था और लोगों ने उनके काम को काफी सराहा था।

लगान

यह फिल्म क्रिकेट और देशभक्ति के जज्बे से भरपूर थी। फिल्म का निर्देशन आशुतोष गोवारिकर ने किया था और फिल्म में आमिर खान के काम को लोगों द्वारा काफी पसंद किया गया था। बता दें कि इस फिल्म को ऑस्कर अवॉर्ड के लिए भी नॉमिनेट किया गया था।