बांसवाड़ा में कर्फ्यू का चौथा दिन, सामान खरीदने के लिए मिली थोड़ी देर की छूट

जयपुर। तनावग्रस्त बासंवाडा शहर में सोमवार को चौथे दिन कर्फ्यू में दोपहर बारह से तीन बजे के बीच ढील दी गई। एक धार्मिक स्थल को लेकर हुए उपद्रव और खूनी हिंसा के बाद शुक्रवार को शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया था। प्रशासन के अनुसार फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन तनाव बरकरार है। पुलिस ने अब तक 60 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। इस बीच गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि दंगों में शामिल दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा और शहर में शीघ्र शांति बहाली होगी।

जिला कलेक्टर भगवतीप्रसाद ने बताया कि शहर में शांति के हालात को देखते हुए सोमवार को चौथे दिन कर्फ्यू में दोपहर बारह से तीन बजे के बीच ढील दी गई। लोगों ने अपनी और परिवार की जरूरत के हिसाब से सामान खरीदा। इधर पुलिस ने अब तक 60 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। अशांति फैलाने वाले लोगों में कई भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता भी शामिल है।

उधर रविवार शाम को जिले के प्रभारी व प्रदेश के जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी व भूजल विभाग के राज्य मंत्री सुशील कटारा तथा उदयपुर संभागीय आयुक्त भवानीसिंह देथा बांसवाड़ा पहुंचे। प्रभारी मंत्री और संभागीय आयुक्त ने अलग-अलग दौरा करते हुए शहर के कालिकामाता में प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया और उन्होंने यहां पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों से घटना के बारे में जानकारी लेते हुए पीड़ितों को प्रभावी व त्वरित राहत प्रदान करने के निर्देश दिए। प्रभारी मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि पीड़ितों को राज्य सरकार के प्रावधानों के अनुसार अधिकाधिक राहत प्रदान की जाए। उन्होंने मौजूद समाजसेवियों से आह्वान किया कि पीड़ित पक्षों के पुनर्वास तक आवास, भोजन इत्यादि के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं की जाए।

गौरतलब है कि शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र में खाटवाड़ा एवं गोरखईमली में गुरूवार रात्रि दो समुदायों में हुए विवाद के बाद पुलिस ने धारा-144 लगाई थी। शहर में इंटरनेट सेवाएं भी बंद करवाई गई। शहर के भीतरी इलाके में दंगाइयों ने करीब दो दर्जन से अधिक मकानों को आग के हवाले कर दिया और इतने ही वाहनों को फूंक दिए। इसके बाद शुक्रवार दोपहर फिर हुई हिंसा एवं आगजनी के बाद अनिश्चिकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया था। शनिवार को एक मकान में पथराव और दो दुकानों में लूटपाट की घटना हुई, रविवार को भी छिटपुट वारदातें हुई।