स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर पूर्व सांसद बैठे धरने पर

महोबा। महोबा में बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं और डॉक्टरों की मनमानी के विरोध में आज पूर्व सांसद और बीजेपी नेता गंगाचरण राजपूत अपने समर्थकों के साथ अस्पताल परिसर में धरने पर बैठ गए। जिला चिकित्सालय के मुख्य गेट पर सांसद ने धरना देकर सरकारी डॉक्टरों की प्राइवेट प्रैक्टिस पर कड़ी आपत्ति जताई ! एसडीएम सदर और सीएमओ के आश्वासन के बाद सांसद ने अनशन ख़त्म किया ! सांसद ने चेतवानी दी यदि डॉक्टरों का रवैया सुधरा तो डॉक्टरों के खिलाफ मुकदमें लिखाएं जाएगा और जनहित याचिका लगाई जायेगी।

former-mp

बदहाल बुंदेलखंड के यूँ तो सभी जनपदों में स्वस्थ्य सेवायों की स्तिथि दयनीय है ! मगर महोबा जनपद का हाल बुरा है ! जनपद के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की खासी कमी है ! उस पर सरकारी डॉक्टर प्राइवेट क्लीनिक चला रहे है ! ऐसा ही हाल महोबा जिला चिकित्सालय का है। जिला अस्पताल में डॉक्टर अपनी मनमानी कर रहे है ! ड्यूटी के समय डॉक्टर अपने कैबिनों से नदारद रहते है और मरीज,तीमारदार इलाज के लिए भटकते रहते है। डॉक्टरों के इस लापरवाह रवैये से नाराज पूर्व सांसद और बीजेपी नेता गंगाचरण राजपूत अपने समर्थकों के साथ जिला अस्पताल मुख्य गेट में धरने पर बैठ गए।

धरने के दौरान पूर्व सांसद ने सरकारी डॉक्टरों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सुधर जाने की चेतवानी भी दी। धरने में बैठे लोगों ने जिला अस्पताल की लचर कार्यशैली पर जमकर भड़ास निकाली। धरना और हंगामें की खबर मिलते ही सीएमएस मौके पर पहुँच गए ! हंगामें के दौरान पूर्व सांसद ने सीएमएस को भी खरी खोटी सुनाई। धरना बढ़ता देख सीएमओ सुधीर कुमार और एसडीएम सदर प्रबुद्ध सिंह भी धरना स्थल पहुंचे और पूर्व सांसद को आश्वासन दिया। तक़रीबन चार घंटे चले इस धरने को SDM के आश्वासन के बाद समाप्त कर दिया गया।धरने को लेकर पूर्व सांसद ने कहा कि ये आंशिक धरना था यदि सरकारी डॉक्टरों ने अपनी प्राइवेट प्रैक्टिस बंद नहीं की तो बड़ा आंदोलन होगा और डॉक्टरों खिलाफ मुक़दमे भी दर्ज कराये जायेगे । लापरवाह डॉक्टरों के खिलाफ जनहित याचिका भी डाली जायेगी ! यहीं नहीं पूर्व सांसद ने सीएमओ और सीएमएस के सामने ही जिला अस्पताल के डॉक्टरों और कर्मचारियों पर कमीशनखोरी करने का आरोप लगाया ।

(मनोज, संवाददाता)