वनकर्मियों की मशक्कत से पकड़ा गया आदमखोर बघेरा

जोधपुर। थानागाजी क्षेत्र में चार माह से आंतक मचाने वाले आदमखोर बघेरे को आखिर वनकर्मियों की टीम ने बडी मशक्कत कर शिकंजे में ले लिया। वन प्रशासन ने बुधवार रात्रि रायपुर भाल के जंगल से इस खूंखार बघेरे को पिंजेरे में कैद कर गुरुवार को सुबह जयपुर चिड़ियाघर के लिए रवाना कर दिया।

उल्लेखनीय है कि इस आदमखोर बघेरे ने रायपुर भाल एवं काला लांका जंगल में दो महिलाओं को मौत के घाट उतार दिया था। इस बघेरे के पकड़े जाने से जहां जंगल प्रशासन ने राहत की सांस ली है, वहीं ग्रामीणों में भी भय कम होने लगा है।

बीमार बघेरा भी भेजा जयपुर सरिस्का जंगल से जुड़े टहला के नारायणी धाम जंगल क्षेत्र में वन प्रशासन को एक बीमार बघेरा भी मिला। जंगल प्रशासन ने इस बीमार बघेरे को पकड़कर उपचार के लिए जयपुर भिजवाया है। वन प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार बीमार बघेरा काफी कमजोर एवं थका हुआ दिखाई दिया। उसे चलने-फिरने में भी परेशानी हो रही थी। उसकी कमजोरी के चलते वह अन्य बाघ या बघेरे का भी शिकार बन सकता था।