पहले जल भराव और अब कीचड़ से बच्चों की शिक्षा पर पड़ा असर

फतेहपुर। प्रदेश सरकार शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए जहां एक और गांव से लेकर शहर तक सर्व शिक्षा अभियान के तहत जागरूकता रैली निकाल कर जन-जन स्कूल चलो अभियान भलेही चला रही हो। मगर जमीनी हकीकत क्या हैं हम आप को दिखाते हैं। जिस जगह न तो सरकार की नज़र गई और न ही बैठे आलाधिकारियों की। जरा इस स्कूल को गौर से देखिए जहां पर पढाने वाली अध्यापिका तो हैं मगर इस विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चे नहीं है। क्यों नहीं है? ये हम आपको बताते है।

first impact, education,children, water logging, now mud,
water logging now mud

पहले तो जल भराव और फिर बाद में स्कूल तक जाने वाले मार्ग में कीचड़ होने के कारण ये बच्चे तो क्या बड़ों के लिए भी किसी चुनौती से काम नहीं है। बात अगर हम शिक्षा की करे तो सरकार और सरकारी नुमाइंदे इस समस्या से अभी तक अंजान हैं। इस विद्यालय में चारों तरफ बाउंड्री नहीं है तथा आवारा पशु भारी मात्रा में यहां घुस आते हैं। जिससे बच्चों की शिक्षा भी प्रभावित होती हैं। यही नहीं इस विद्यालय में बच्चों के लिए पानी पीने के लिए एक हैण्ड पम्प लगाया गया मगर अब वह भी ख़राब पड़ा हुआ हैं। अगर किसी बच्चे को प्यास लगती हैं तो वह या तो घर से पानी लाए या फिर किसी और जगह पानी पीने के लिए जाएगा। आखिर कार हम सरकार और सरकारी नुमाइंदों का ध्यान इस ओर कराना चाहते है।

शिक्षा अभियान जागरूकता रेलिया निकाली जा रही हैं, ये अच्छी बात हैं। मगर यह जमीनी हक़ीक़त सरकार और सरकार के द्वारा शिक्षा पर चलाए जा रहे अभियान को साफ़-साफ़ मुंह चिढ़ाते नज़र आ रहा हैं। सरकारी नुमाइंदो को समस्याओं पर विचार करना होगा। तभी शिक्षा से सम्बंधित रैलियों का असर जमीनी स्थर पर दिखाई देगा। यह मामला उत्तर प्रदेश में फतेहपुर जिले के सदर क्षेत्र के उधन्नापुर में स्थापित सरकारी प्राथमिक विद्यालय का हैं। इस बारे में विद्यालय की टीचर ने बताया की हम लोगों ने बाउंड्री के बारे में और यहां की समस्याओं के बारे में कई बार अपने सम्बंधित अधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत की है, मगर अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। उन्होंने ने बताया कि जल भराव हो या कीचड़, हम लोगों को आना हैं गांठ-गांठ भर पानी से चल कर विधालय आना पड़ता हैं। वहीं जब मीडिया को जानकारी देते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारी स्वीन्द्र प्रताप सिंह से बात की तो उन्होंने बताया की जिन विद्यालों में जल भराव और समस्या हैं जल्द ही खंड शिक्षा अधिकारी को निर्देशित कर के सुचारु व्यवस्था कराई जायगी।