झोपड़ी में लगी आग, दो मासूमों की मौत, लोगों में भयंकर रोष

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के जनपद बुलंदशहर के तिलडेरी गाँव में देर रात एक झोपडी में आग लग गई। आग लगने से झोपड़ी में सो रहे दो मासूम बच्चों की मौके पर मौत हो गई, जबकि एक गम्भीर रूप से झुलसे हुए बच्चे की दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई। घटना की सूचना देने के बाद भी मौके पर ना तो फायर बिग्रेड पहुंची और ना ही कोई अधिकारी मौके पर पहुंचा।

मामला बुलंदशहर जनपद के सिकन्द्राबाद थाना क्षेत्र तिलडेरी गांव का है। यहां मजदूर देवेन्द्र अपने परिवार के साथ झोपडी में रहता था। देवेन्द्र को लोहिया आवास योजना में एक लाख 37 हजार रूपए मिले थे। जिससे देवेन्द्र अपना घर बनवा रहा था। शुक्रवार की रात देवेन्द्र अपने तीन मासूम बच्चों शुशांत, आशी और नैतिक को घर में सुलाकर अपने निर्माणाधीन घर को देखने चला गया। तभी थोडी देरे में देवेन्द्र के बड़े भाई ने उसे सूचना दी कि उसकी झोपडी में आग लग गई है। देवेन्द्र जब तक अपनी झोपडी पर पहुंचा तो झोपडी आग के गुब्बार बन चुकी थी। लोगों की मदद से देवेन्द्र अपने बच्चों को बाहर निकाला। लेकिन दो मासूम बच्चों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया, जबकि एक गम्भीर रूप से झुलसे नैतिक ने दिल्ली में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

लोगों की माने तो रात को ही फायर बिग्रेड और पुलिस को सूचना दी गई थी। लेकिन फायर बिग्रेड की गाडी चार घंटे देरी के साथ घटना स्थल पर पहुंची। जब तक सब कुछ राख के ढेर में तब्दील हो चुका था। घटना की सूचना मिलने के बाद भी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों मौके पर नहीं पहुंचे। प्रशासनिक अधिकारियों के मौके पर नही पहुंचने से ग्रामीणों में काफी रोष है।