लंदन की 27 मंजिला में आग लगने से मरनें वालो की संख्या हुई 12

लंदन। पश्चिमी लंदन के लैरिमर रोड स्थित वाइट सिटी के ग्रेनफेल टावर में बुधवार तड़के लगी भयंकर आग में कम से कम 12 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है। 27 मंजिला इस इमारत के कुल 120 फ्लैट्स में तकरीबन 600 लोग रहते हैं। इस भीषण आग पर काबू पाने के लिए 200 दमकलकर्मियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।


मेट्रोपॉलिटन पुलिस के कमांडर स्टुअर्ट कंडी के मुताबिक, अभी भी लोगों को इमारत से निकाले जाने का काम जारी है। आग की वजह से कई लोग गंभीर तौर पर झुलस गए। पुलिस ने बताया कि करीब 50 लोगों को शहर के पांच अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। उन्होंने बताया कि मरने की वालों की तादाद अभी और बढ़ भी सकती है।
लंदन के मेयर सादिक खान ने इस घटना पर दुख जताते हुए अपने बयान में खान ने कहा कि सभी पीड़ितों के लिए मेरा दिल दुखी है। मुझे बेहद दुख है।

गौरतलब है कि आग बिल्डिंग की दूसरी मंजिल में लगी और 27वीं मंजिल तक फैल गई। सबसे पहले, सुबह तीन बजे बिल्डिंग के एक ब्लॉक में आग की लपटें दिखी, जो देखते ही देखते दोनों तरफ फैल गई। मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस और दमकल की 40 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं और लोगों को बचाने और आग बुझाने में जुट गईं। लंदन की बहुमंजिला टावर ब्लॉक भीषण आग की चपेट में आने की खबर है।

घटना पश्चिमी लंदन के लाटिमर रोड पर स्थित एक टावर ब्लॉक में हुई है। जो तस्वीरें आ रही हैं उससे लग रहा है कि आग इमारत के 24वें माले पर पूरी तरह फैल गई है। आग की सूचना स्थानीय समयानुसार सवा एक बजे मिली इसे बुझाने में 200 दमकलकर्मियों को लगाया गया है। मेट्रोपोलिटन पुलिस ने कहा है कि लोगों को सुरक्षित निकालने का काम चल रहा है। बीबीसी के मुताबिक पूरा टावर आग की चपेट में आ गया है जिससे उसके ढहने का डर पैदा हो गया है। लंदन फ़ायर ब्रिगेड के अनुसार, मौके पर दमकल की 40 गाड़ियां भेजी गई हैं।
अमेजिंग स्पेसेज़ के प्रेजेंटर जॉर्ज क्लार्क ने रेडियो पांच लाइव को बताया, ‘मैं इमारत से 100 मीटर दूर हूं, लेकिन राख से पूरी तरह ढक गया हूं।’
उन्होंने कहा, ‘यह दिल तोड़ देने वाली घटना है. मैंने किसी को सबसे ऊपर टॉर्च से रोशनी करते हुए देखा है और स्वाभाविक है कि वो बाहर नहीं निकल सकता।’

सूत्रों के मुताबिक इमारत से मलबा गिर रहा था और धमाके की आवाज भी आ रही थी साथ ही कांच टूटने की आवाजे भी सूनाइ दे रही थी। पुलिस लगातार अपनी घेराबंदी पीछे हटा रही थी और लोगो के दूर जाने के लिए कह री थी क्योंकि इमारत के गिरने का खतरा पैदा हो गया था।