नाव हादसे के लिए मुख्यमंत्री पर एफआईआर दर्ज करने की मांग

पटना। भारतीय जनता पार्टी ने बिहार की राजधानी पटना में मकर संक्रान्ति के अवसर पर शनिवार को एनआईटी घाट पर हुए नाव हादसे के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेवार मानते हुए उनपर एफआईआर दर्ज करने की मांग की। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने इस दुर्घटना में घायलों के परिजनों से स्थानीय पीएमसीएच में मुलाकात करने के बाद हादसे के लिए सीधे तौर पर मुख्यमंत्री को जिम्मेवार माना। बाद में संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की लापरवाही से इतना बड़ा हादसा हुआ है जिसमें बिहार के अब तक इस पावन पर्व में 25 लोग मारे गए।

उन्होंने जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को मुख्यमंत्री के प्रतिदिन हो रहे कोई न कोई कार्यक्रम में उनकी सुरक्षा व्यवस्था से हटाने की मांग करते हुए कहा कि ऐसा होने पर जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक आम जनों की सुरक्षा और प्रशासनिक व्यवस्था में अपना समय पूरी तरह दे पाएंगे। मोदी नें कहा कि सरकार के स्तर पर इतना बड़ा आयोजन किया गया परन्तु इसकी प्रशासनिक व्यवस्था नहीं की गई थी जिसके कारण यह नाव हादसा हुआ। उन्होंने कहा कि लोगों की संख्या के अनुरूप गंगा के उस पार से उन्हें राजधानी पटना लाने के लिए नाव कम थी और जो थे उनमें से एक दोपहर को ही खराब हो गई थी।

भाजपा नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री ने स्वयं लोगों से अधिक से अधिक संख्या में सरकार के पर्यटन विभाग की ओर से मकर संक्रान्ति के अवसर पर गंगा के दियार क्षेत्र में आयोजित पतंगबाजी के कार्यक्रम में भाग लेने का आह्वान किया था। उल्लेखनीय है कि गंगा दियारा से वापसी के समय शनिवार की देर शाम गंगा नदी में एनआईटी घाट के निकट दो नाव एक साथ डूब गए। इस हादसे में अभी तक 25 लोगों की डूबे ने मौत हो गई जबकि कई अभी भी लापता हैं।