हवालात से फरार कैदी फिल्मी तरीके से आए पकड़ में

सहारनपुर। सहारनपुर न्यायलय परिसर की हवालात से भागे 4 कैदियों में से बारी-बारी आरोपी पुलिस के कब्जे में आ रहे हैं। हवालात के रोशनदान को तोड़कर ये चारों कैदी फरार हुए थे जिसके बाद सहारनपुर पुलिस व् सहारनपुर क्राइम ब्रांच उनको तलाशने में जुट गयी थी। रविवार रात करीब 10 बजे मुखबीर की सूचना पर सहारनपुर के बड़गांव थाने की पुलिस ने क्षेत्र के ग्राम महेशपुर से दूसरे कैदी हारून को गिरफ्तार कर लिया। हारून को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस अब तक 2 कैदियों को वापस गिरफ्तार करने में कामयाब हुयी है।

आपको बता दें कि 4 जनवरी को कैद से 4 कैदी फरार हुए थे जिनमें से एक खतरनाक अपराधी को पुलिस ने 2 दिन बाद ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इन सबमे सबसे खतरनाक था बिल्लू साण्डा जो की हत्याओं सहित कई अन्य 16 मामलों में जेल में बंद था। जब बिल्लू को पुलिस ने गिरफ्तार किया तो उसके चेहरे पर कोई शिकन नहीं था। जब उससे मीडिया ने बात की तो उसने कहा उसे खलनायक बनना है वो खलनायक फिल्म का संजय दत्त बनना चाहता है।ये शब्द कहे है सहारनपुर जेल में बंद क़ैदी बिल्लू उर्फ़ सांडा ने जो 4 जनवरी को सत्र न्यायलय की हवालात से रोशन दान की जाली तोड़कर कर फरार हो गया था । ये अलग बात है कि पुलिस ने 36 घंटे बाद ही धर दबोचा।

बिल्लू उर्फ़ सांडा जिसके ऊपर 16 से ज्यादा मामले है जिनमे हत्या , रंगदारी आधी है इनमे से कई मामले ऐसे है जिनमे इसे सजा होने वाली है। पिछले एक साल से जेल में बंद था 4 जनवरी 2017 जब इसे सहारनपुर जेल से सत्र न्यायलय लाया गया तो पेशी के बाद इसे अन्य क़ैदियों के साथ वही हवालात में बंद कर दिया गया।जहाँ से ये कुख्यात क़ैदी रोशनदान की खिड़की तोड़कर भाग गया और साथ अन्य तीन क़ैदी भी भाग गए।

इसका कहना है बचपन में एक फिल्म खलनायक देखि थी और बस मन में ठान लिए की अब तो खलनायक ही बनना है। पहला मर्डर सुपारी लेकर करना था लेकिन उसमे असफल रहा पकड़ा भी गया उसे बाद तो हौसला और बढ़ गया और एक के बाद एक तीन मर्डर कर दिए जिनका मर्डर किया उनसे कोई दुश्मनी नहीं थी बस अपने शौक के लिए उन्हें मौत के घाट उतार दिया। जब पूछा की कैसे भागे तो बताया की हाथ में लगाए जाने वाली हथकड़ी तो ये कई बार खोल चुके है लेकिन भागने का मौका नहीं मिला हथकड़ी से हाथ निकालना तो इनके लिए बड़ा ही आसान है लेकिन भागने का मौका 4 जनवरी को मिला हवालात की रोशन दान की जाली बरसो पुरानी थी बस तोड़ डाली और सबसे पहले वो बाहर निकला और भाग निकला यहाँ से निकल कर एक व्यापारी वासिम को फोन कर बीस लाख रुपए रंगदारी मांगी और ना देने के एवज मे हत्या करने का मन्सूबा था। बस इसी रंगदारी के चक्कर में बिल्लू ऊर्फ साँडा को कुतुबशेर पुलिस, क्राइम ब्राँच ने सर्विलाँस लाँस की मदद से सब्दलपुर तिराहे के पास से धर दबोचा ।

 विशाल कश्यप, संवाददाता