ऋण माफी के दौरान हुआ खुलासा, किसानों ने किया करोड़ों का गबन

संत कबीर नगर जिले में पूर्वांचल बैंक की शाखा प्रबंधक और 240 किसानों द्वारा फर्जी कागजात लगाकर 2 करोड़ 42 लाख रूपए का गोलमाल तीन वर्षों में किया है। जिसका खुलासा भाजपा सरकार द्वारा किसानों के ऋण माफी कार्यक्रम में जांच के दौरान हुआ। मामला सामने आने के बाद शाखा प्रबंधक के तहरीर और जिलाधिकारी के निर्देश पर जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया गया है।

farmers mischief

संत कबीर नगर जिले के महुली थाना क्षेत्र में स्थित पीडिया गांव में पूर्वांचल बैंक के तत्कालीन शाखा प्रबंधक अवनीश कुमार तिवारी और 240 किसानों द्वारा फर्जी दस्तावेज से जरिए यह जालसाी साल 2012-15 तक की गई है। इस बात का खुलासा सरकार द्वारा ऋण माफी कार्यक्रम में किसानों के जांच में राजस्व विभाग और बैंक द्वारा जांच में मिला है। जिसके बाद शाखा प्रबंधक राम भूषण पांडेय के तहरीर पर जिलाधिकारी के निर्देश पर महुली थाने में जालसाजी और धोखा धड़ी का मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

बैंक द्वारा की गई इस कार्रवाई से किसानों में पूरी तरह से हड़कंप मचा हुआ है जबकि इस मामले में पूर्वांचल बैंक के रीजनल मैनेजर प्रफुल्लित कुमार श्रीवास्तव की माने तो उक्त बैंक मैनेजर अवनीश कुमार तिवारी साल 2015 में रिटायर्ड भी हो गए है। जबकि इस गोलमाल मामले में किसान और ब्रांच मैनेजर के साथ ही वकीलों पर भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है फिलहाल ये जांच के बाद ही पता चल पाएगा की किसानों और ब्रांच मैनेजर के साथ उन वकीलों पर भी कार्यवाही की जाएगी या नहीं।